बिहार के मुकेश के पिता चलाते थे ऑटो, बेटे ने बांग्लादेश में की घातक गेंदबाजी और झटके 6 विकेट।

WhatsApp

भारत ए और बांग्लादेश ए की टीम के बीच हो रहे दूसरे अनऑफिशियल टेस्ट मुकाबले में भारतीय गेंदबाज मुकेश कुमार ने बेहतरीन काट डाला। मंगलवार से शुरू हुए इस दूसरे मैच में मुकेश कुमार ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 15.5 ओवर में 6 विकेट लिए। उन्होंने 40 रन खर्च किए और 5 मेडिन ओवर डाला। मुकेश ने अपनी कातिलाना गेंदबाजी से बांग्लादेश के तमाम बल्लेबाजों को चारों खाने चित कर दिया।

गेंदबाज मुकेश कुमार ने ओपनर जाकिर हसन को 46, कप्तान मोहम्मद मिथुन को 4, महमुदुल हसन को 12, आशिकर जमां को 21, जाकिर अली को 62 और मुस्फिक हसन को डक पर क्लीन बोल्ड कर बांग्लादेश टीम को बैकफुट पर धकेल दिया। मुकेश की शानदार गेंदबाजी के दम पर बांग्लादेश की पहली पारी 252 रन पर सिमट गई। टीम इंडिया की ओर से उमेश यादव ने 16 ओवर में 55 रन खर्च कर 2 और जयंत यादव ने इतने ही ओवर में 56 रन देकर दो विकेट लिए। जवाब में टीम इंडिया ने सधी शुरुआत की।

बता दें कि मुकेश कुमार बिहार के गोपालगंज निवासी हैं। क्रिकेट खेलने के लिए उन्होंने अपना घर छोड़ बंगाल का रुख किया। उनके दिवंगत पिता कोलकाता में ही ऑटो चलाते थे। पिता की चाहत थी कि बेटा उनकी आमदनी में सहयोग करें, लेकिन मुकेश कुछ अलग करना चाहते थे। उन्होंने 20 साल की उम्र में क्रिकेट को पेशेवर तरीके से खेलना शुरू कर दिया था। रोजाना की आमदनी के लिए मुकेश क्लब क्रिकेट खेलते थे। साल 2014 का वक्त था जब क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल ने उन्हें पहली बार रिकॉग्नाइज किया। हर क्रिकेट की तरह मुकेश की चाहत थी कि उन्हें एक दिन भारतीय टीम से खेलने का मौका मिले।

मुकेश बांग्लादेश में अपनी शानदार गेंदबाजी से मुरीद बना रहे हैं। मेरे पहले अनाधिकारिक टेस्ट की दोनों पारियों में तीन विकेट लिए थे। इसे पहले वे विजय हजारे ट्रॉफी के 6 मैचों में 9 विकेट लेकर अपने प्रदर्शन से हर किसी को प्रभावित किया था। इस युवा गेंदबाज ने अपने प्रदर्शन के दम पर भारतीय टीम का दरवाजा खटखटा दिया है।

Join Us