Honey Farming Business: मधुमक्खी पालन का बिजनेस कर हो जाएंगे मालामाल, सरकार दे रही 90% अनुदान, जानें प्रक्रिया।

WhatsApp

Honey Farming Business: देश के ग्रामीण इलाकों में मधुमक्खी पालन एक लोकप्रिय बिजनेस बन गया है। ‌इस बिजनेस से बड़ी तादाद में किसान जुड़ रहे हैं। सरकार किसानों को मधुमक्खी पालन हेतु के लिए हमेशा प्रोत्साहित करती रही है। बिहार सरकार ने इसका बिजनेस करने वाले किसानों को वित्तीय रूप से मदद करने का फैसला लिया है। बिहार कृषि विभाग, बागवानी निदेशालय के द्वारा चलाई जा रही इस स्कीम के तहत किसानों को फूल, फल, मधुमक्खी पालन एवं विभिन्न बागवानी फसलों की खेती पर सब्सिडी देती है।

मिलेगा 90 फीसदी तक अनुदान।

बिहार सरकार इस योजना (Honey Farming Business) के तहत किसानों को लगभग 90 प्रतिशत तक अनुदान उपलब्ध करा रही है। बता दें कि सामान्य श्रेणी के किसानों को 75 प्रतिशत और एससी/एसटी श्रेणी के किसानों को 90 प्रतिशत अनुदान उपलब्ध कराती है। इसके साथ ही मधु पालन के लिए बक्सा भी दिया जाता है, वह भी मधुमक्खी के साथ। प्रति हनी बॉक्स और हनी छत्ता की कीमत सरकार ने 4 हजार रुपए निर्धारित की है। बिहार कृषि विभाग, बागवानी निदेशालय सामान्य किसानों को 3 हजार रुपए, जबकि एससी-एसटी किसानों को प्रति बॉक्स 3600 सब्सिडी मिलता है।

ये भी पढ़ें: एक व्हाट्सएप अकाउंट को 4 डिवाइस में करें इस्तेमाल, जानें पूरी प्रोसेस।

अनुदान के लिए ऐसे करें अप्लाई।

अगर आप मधुमक्खी पालन योजना (Honey Farming Business) के तहत अगर आप सब्सिडी पाने के लिए इच्छुक हैं तो हॉर्टिकल्चर की ऑफिशिय ऑफिशियल वेबसाइट http://horticulture.bihar.gov.in/ पर जाकर अनुदान के लिए आवेदन कर सकते हैं।

नाबार्ड भी देता है अनुदान।

मधुमक्खी पालन (Honey Farming Business) के लिए किसानों को हर संभव मदद करने के लिए राष्ट्रीय मधुमक्खी बोर्ड ने नाबार्ड से हाथ मिलाया है। दोनों मिलकर देश में मधुमक्खी पालन बिजनेस के लिए वित्तीय योजनाएं शुरू की हैं। इससे इस बिजनेस में दिलचस्पी रखने वाले किसानों को खूब फायदा होता है। इसके साथ ही केंद्र सरकार के द्वारा इस बिज़नेस पर 80 से 85 फीसदी अनुदान मिलता है।

किसान ऐसे बढ़ा सकते हैं अपनी आमदनी।

ये भी पढ़ें: इस डिवाइस से पूरी जिंदगी फ्री में चलेगा टीवी, बिना रिचार्ज मजा उठा सकेंगे 250+ चैनल्स का।

विशेषज्ञों की मानें तो किसान मधुमक्खी पालन (Honey Farming Business) कर अपना कारोबार बढ़ा सकते हैं। अपनी आमदनी को 4 गुना तक बढ़ोतरी कर सकते हैं। अगर आप शुरुआत में 10 से 15 पेटी मधुमक्खी पालन करते हैं तो 50 हजार रुपए की लागत आएगी। मार्केट में ओरिजिनल शहद की कीमत लगभग 400 रूपए से 700 रूपए प्रति केजी है। इस तरह किसान 50 हजार रुपए पूंजी निवेश पर सालाना 1 लाख 30 हजार रुपए कमा सकते हैं।

Join Us

Leave a Comment