Connect with us

NATIONAL

UPI आईडी पर गलती से चला गया है तो पैसा आसानी से होगा वापस, इन स्टेप्स को कर सकते है फॉलो।

Published

on

अभी के समय में पैसे के लेन-देन का तरीका डिजिटल हो गया है। अब लोग कैश से लेन-देन की बजाए डिजिटल तरीके से लेन-देन करना अधिक पसंद करते हैं। दरसल इसके लिए UPI ने इस क्षेत्र में परिवर्तन किए हैं। इसमें कई फायदे हैं, जैसे कि, समय की भी बचत है, आपको बैंक व एटीएम के बाहर लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। यदि आपके पास हार्ड कैश उपलब्ध नहीं है, फिर भी लेन-देन से संबंधित बड़े से बड़ा काम भी नहीं रुकता। बस एक क्यूआर कोड स्कैन करना होता है और तुरंत पैसा ट्रांसफर हो जाता है। किन्तु यदि कभी किसी गलत अकाउंट में UPI ट्रांजैक्शन हो गया, तो ऐसे में क्या करें? तो चलिए हम आपको बताते हैं कि इसका समाधान क्या हैं।
 
यदि गलती से आप किसी गलत UPI आईडी में पैसा भेज देते हैं तो आप घबरा जाते हैं कि अब क्या करें! पैसा वापस कैसे आएगा? किन्तु अब इसके लिए घबराने की आवश्यकता नहीं है, धैर्य से काम लेने की आवश्यकता है। यहां पर जो स्टेप्स बताए जा रहे हैं, उनकी सहायता से आप बहुत ही आसानी से गलत अकाउंट में ट्रांसफर हुआ पैसा वापस पा सकते हैं। RBI कहता है कि ऐसी स्थिति, सबसे पहले आपको उस पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर के पास एक शिकायत दर्ज करवानी चाहिए जिसके माध्यम से आपने ये ट्रांजैक्शन किया है। 

जब भी आप किसी पेमेंट सर्विस का उपयोग करते हैं तो उस सर्विस प्रोवाइडर का एक कस्टमर केयर नम्बर भी होता है। इसके लिए आप उनकी कस्टमर सर्विस से भी सहायता ले सकते हैं। Paytm, Google Pay, PhonePe आदि सभी ऐप्स का कस्टमर सर्विस पोर्टल होता है, जिस पर जाकर आप मदद ले सकते हैं। यदि पेमेंट सर्विस ऐप से सहायता मांगने के बाद भी आपकी समस्या का निदान नहीं हो रहा है तो आप RBI लोकपाल के पास संपर्क कर सकते हैं। RBI के अनुसार, लोकपाल को खासतौर पर कस्टमर्स की इसी तरह की समस्याओं के लिए नियुक्त किया होता है।

यदि आपका पेमेंट सर्विस प्रोवाइड RBI के निर्देशों का पालन नहीं कर रहा है तो उसके खिलाफ शिकायत भी दर्ज करवाई जा सकती है। यानि कि यदि UPI, भारत क्यूआर कोड व दूसरे माध्यमों से ट्रांजैक्शन किया जाता है और बेनिफिशिअरी अकाउंट हेतु वह फेल हो जाता है तो पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर को वह एक समय सीमा के अंदर सेंडर के पास वापस क्रेडिट करना होता है। लेकिन यदि आपका पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर ऐप ऐसा नहीं करता है, तो उसके खिलाफ शिकायत दर्ज करवा सकते है।