Connect with us

BIHAR

विक्रमशिला सेतु समांतर पुल से इस दिन से दौड़ेगी गाड़ियां, लोगों को जाम से मिलेगी मुक्ति

Published

on

भागलपुर में विक्रमशिला सेतु के समांतर बनने वाले पुल के लिए चयनित एजेंसी एसपी सिंगला को सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय नई दिल्ली के द्वारा लेटर ऑफ अवार्ड मिल गया है। अब समझौता होगा। एक सप्ताह में यह पूरी प्रक्रिया होगी। फिर समानांतर पुल निर्माण का कार्य आरंभ होगा। इस पुल का निर्माण विक्रमशिला सेतु से 50 मीटर पूरा में बरारी से होगा। इंजीनियरिंग प्रॉक्यूरमेंट कंट्रक्शन मोड में पुल का निर्माण होगा। चयनित ठेका एजेंसी को कंस्ट्रक्शन, इंजीनियरिंग और डिजाइनिंग करना होगा 994.31 करोड़ खर्च कर पुल का निर्माण होगा। पुनः टेंडर जुलाई में एसपी सिंघला के नाम से तैयार हुआ है।

चयनित ठेका एजेंसी को 1460 दिनों यानी चार वर्ष में पुल का निर्माण कर बनाना होगा। इसके अगले 10 वर्ष तक रखरखाव की जिम्मा एजेंसी की होगा। पूर्व की तरह समानांतर पुल की 29 मीटर चौड़ी, लंबाई 4.455 किमी होगी। इस पुल का अप्रोच गंगा के उत्तर नवगछिया की तरफ 875 मीटर तथा दक्षिण भागलपुर की तरफ 987 मीटर होगा। यह नव घोषित नेशनल हाईवे 131बी (नवगछिया टू हंसडीहा हाइवे) पर गंगा नदी पर निर्माण होगा।

कंसल्टेंसी को समानांतर पुल निर्माण का कार्य करना है। एसए इंफ्रास्ट्रक्चर कंस्टेंट प्राइवेट लिमिटेड का चयन कंसल्टेंसी एजेंसी के लिए मंत्रालय स्तर से की गयी है। हालांकि, इसके लिए एसए इंफ्रास्ट्रक्चर कंस्टेंट प्राइवेट लिमिटेड, कंसल्टेंट चैतन्या प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड, हेक्सा कंपनी, दोहवा इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड, स्टूप कंसल्टेंट प्राइवेट लिमिटेड और साइस्तरा कंपनी ने टेंडर भरा था। टेक्निकल बिड में हेक्सा, चैतन्य और दोहवा छंट गया था। बाकी के अन्य एजेंसियों में सबसे कम बिड रेट लगभग 38.15 करोड़ रुपये एसए इंफ्रास्ट्रक्चर कंसटेंट प्राइवेट लिमिटेड का रहने से उनका सलेक्शन किया गया है।

मोर्थ के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर अभिनव कुमार ने बताया कि समांतर पुल का निर्माण हेतु चयनित एजेंसी को लेटर ऑफ अवार्ड मिल गया है। एजेंसी के साथ अब समझौता होना है। यह प्रक्रिया पूर्ण कर ली जाएगी। फिर निर्माण का कार्य शुरू होगा। बता दें कि इस पुल के बनने से जाम की समस्या से मुक्ति मिलेगी।