Connect with us

BIHAR

बिहार के छात्रों को पढ़ाई में नहीं होगी आर्थिक बाधा, स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना में जुड़ेंगे 87 नए कोर्स।

Published

on

बिहार के छात्रों को पढ़ाई में आर्थिक स्थिति रुकावट ना बने इसके लिए सरकार के द्वारा बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना चलाया जा रहा है। अब सरकार इस स्कीम में कई और कोर्सों को ऐड करने जा रही है। बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के दायरे में फैशन, लेदर और टैक्सटाइल डिजाइन के ग्रेजुएशन और मास्टर डिग्री सहित 87 नए पाठ्यक्रम लाए जा रहे हैं। योजना के नीतिगत निर्णय पर फैसला लेने के लिए शिक्षा विभाग के उच्च स्तरीय कमेटी ने औपचारिक प्रस्ताव बना लिया है।

बता दें कि प्रस्तावित नये कोर्स में कृषि, उच्च शिक्षा, चिकित्सा, विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग, श्रम सहित सात विभागों से सलाह ली गयी है। यह पूरी तैयारी अक्तूबर में पूरी होनी है। इस मामले में अंतिम फैसला शिक्षा विभाग के सचिव के नेतृत्व में गठित कमिटी को लेना शेष है। अब तक 42 पाठ्यक्रम में छात्रों को पढ़ाई के लिए कर्ज मिलता है। अगर 87 नये कोर्स को स्वीकृति मिलती है, तो टोटल 129 कोर्स की पढ़ाई हेतु कर्ज मिल सकेगा।

विभागीय जानकारों के अनुसार इस योजना में चार वर्षीय बैचलर ऑफ एग्रीकल्चर, बीएड, मास्टर ऑफ एग्रीकल्चर, डीएलएड, बीबीएम (चार वर्षीय कोर्स), एग्री बिजनेस में एमबीए और एम ए मास कम्युनिकेशन, वोकेशनल कोर्स में मेडिकल इलेक्ट्रो फिजियोलॉजी, एमएससी स्टैटिक्स एंड कंप्यूटिंग, साइंस टेक्नोलॉजी, आइटीआइ और स्किल से जुड़े हुए तमाम विषय को शामिल किया जा रहे है। सर्वाधिक 16 कोर्स स्वास्थ्य संबंधित हैं। बीएससी एंडोस्कोपी, बीएससी रेडियो थेरेपी, एंडोस्कोपी टेक्नोलॉजी आदि शामिल हैं।

इसके साथ स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के तहत 127 नये कॉलेजों को जोड़ा जा रहा है। कॉलेजों ने इस योजना के तहत ऑनलाइन एप्लीकेशन किये थे। इसमें प्रदेश के बाहर के 121 कॉलेज शामिल हैं। यह वह कॉलेज हैं जो नैक, एनआइआरएफ रैंकिंग और एनबीए हासिल हैं।