Connect with us

BIHAR

बिहार के पूर्णिया एयरपोर्ट निर्माण का रास्ता साफ साथ ही दरभंगा एयरपोर्ट को भी ये खास सुविधा।

Published

on

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय झा ने मिल कर पटना हवाईअड्डे पर सुविधाओं के विस्तार और पूर्णिया एयरपोर्ट के लिए शीघ्र निर्माण शुरू कराने का आग्रह किया। केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने ट्वीट कर प्रदेश के मंत्री संजय झा से मुलाकात की जानकारी शेयर की। उन्होंने कहा कि झा ने प्रदेश में एक अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट निर्माण व संबंधी मसलों पर विस्तार से चर्चा की। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर झा की केंद्रीय मंत्री से मुलाकात हुई।

दरभंगा हवाईअड्डे पर नाइट लैंडिंग के लिए 24 एकड़ भूमि के अर्जन की प्रक्रिया मार्च 2023 तक पूर्ण हो जाएगी। सिविल इन्क्लेव के निर्माण हेतु एजेंसी 52.5 एकड़ भूमि के अधिग्रहण की प्रक्रिया जून 2023 तक पूर्ण हो जाएगी। दरभंगा एयरपोर्ट के नजदीक सिविल एविएशन सेवाओं से जुड़े हुए एक ट्रेनिंग केन्द्र खोलने का उन्होंने मंतव्य दिया‌। उन्होंने विश्वास दिया कि वे इस विचार पर गंभीरता से सोचेंगे।

संजय झा ने जानकारी दी कि दरभंगा से स्पाइस जेट के विमानों की संख्या तकनीकी और अन्य वजहों से करीब एक तिहाई होने से हवाई किराये में बहुत ही उछाल आ गया है। ऐसे में स्पाइस जेट को विमानों की संख्या में वृद्धि की जाये और उसके कोटे की उड़ानों के लिए किसी दूसरी विमानन कंपनी को परमिशन दी जाये। इससे प्रमुख शहरों के किराये में कमी होगी। किराये की अधिकतम सीमा तय करने का आग्रह किया।

उन्होंने बताया कि पूर्णिया हवाईअड्डे के निर्माण हेतु एयरपोर्ट अथॉरिटी के द्वारा जितनी भूमि की मांग की गई थी, प्रदेश सरकार ने उसके अर्जन की प्रक्रिया पूर्ण कर ली है। भूमि के हस्तांतरण के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी को ज्ञापन दिया जा चुका है। उन्होंने कहा कि अब पूर्णिया हवाईअड्डे के लिए भूमि की कोई समस्या नहीं है। संभावना है कि यह हवाईअड्डा जल्द ही शुरू हो जायेगा।

गया हवाईअड्डे से दिल्ली एवं मुंबई के लिए विमान सेवा बढ़ाने पर हो मंथन। मंत्री ने कहा कि गया हवाईअड्डे राज्य का एक बड़ा एयरपोर्ट है, लेकिन उड़ानें कम हैं। आग्रह किया कि गया हवाईअड्डे से दिल्ली तथा मुंबई के लिए विमान सेवा बढ़ाने पर मंथन किया जाये। उन्होंने मंतव्य दिया कि प्रदेश सरकार को हवाई ईंधन (एविएशन टर्बाइन फ्यूल) पर टैक्स की मौजूदा दरों को कम करने पर सोचना चाहिए।