Connect with us

BIHAR

सुरंग से होकर गुजरेगी पटना मेट्रो, छह स्टेशन होंगे भूमिगत, जोरों-शोरों से काम जारी

Published

on

पटना मेट्रो रेल परियोजना के अंडरग्राउंड का काम शुरू हो गया है। सबसे पहले कोरिडोर-टू के राजेंद्र नगर से आकाशवाणी तक 8 किलोमीटर लंबे रूट पर काम जारी है। इस रूट में कुल छह स्टेशन हैं, जिसके निर्माण पर 1189 करोड़ रुपए खर्च होंगे। पटना मेट्रो की निर्माण एजेंसी दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन के मुताबिक, पटना जंक्शन के नजदीक अंडरग्राउंड मेट्रो के निर्माण के लिए दोहरी सुरंग बनाई जाएगी जो जंक्शन से आकाशवाणी तक मेट्रो स्टेशन की तरफ फ्रेजर रोड तक जाएगी।

यहां पर पटना सेंट्रल माल के नजदीक आकाशवाणी मेट्रो स्टेशन बनेगा जो अंडरग्राउंड होगा। मेट्रो स्टेशन के निर्माण के लिए भारतीय नृत्य कला मंदिर, भारतीय जीवन बीमा निगम और आकाशवाणी (प्रसार भारती) से भूमि की मांग की गई थी जिसकी अनुमति मिल गई है। मिट्टी जांच का काम पूर्ण हो गया है। ट्रैफिक डायवर्जन की परमिशन मिलते ही मुख्य निर्माण शुरू हो जाएगा।

कोरिडोर-टू में मोइनुलहक स्टेडियम के नजदीक निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। तकनीकी जांच का काम हो चुका है। फिलहाल बिजली के तार को हटाने का काम जारी है। निर्माण एजेंसी के मुताबिक, इस महीने के आखिर तक डी-वाल यानी अंडरग्राउंड स्टेशन बाक्स का निर्माण प्रारंभ हो जाएगा। यहां मेट्रो स्टेशन मोइनुलहक स्टेडियम कैंपस में ही होगा।

अशोक राजपथ पर पटना मेट्रो के तीन अंडरग्राउंड स्टेशन गांधी मैदान, विश्वविद्यालय और पीएमसीएच होंगे। इसके लिए ट्रैफिक सर्वे और मिट्टी जांच का काम पूरा हो चुका है। फिलहाल पटना मेट्रो के रास्ते में आ रहे पेड़ और अन्य चीजों को हटाने का काम जारी है, जो 15 दिनों में पूरा होने की संभावना है। मेट्रो स्टेशन निर्माण से पूर्व ट्रैफिक डायवर्जन के लिए ट्रैफिक विभाग से परमिशन मांगी गई है। भूमि हस्तांतरण आउट ट्रैफिक परमिशन मिलते ही स्टेशन का निर्माण काम शुरू होगा।