Connect with us

BIHAR

गया रेलवे स्टेशन होगा विकसित, यात्रियों को मिलेंगी विश्वस्तरीय सुविधाएं, देखें कैसा होगा नया डिजाइन

Published

on

केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा है कि बिहार में रेलवे स्टेशनों के मेंटेनेंस और विकास के लिए पिछले 5 सालों में 2915 करो रुपए आवंटित किए गए हैं। इनमें इसी साल के जून महीने तक 1886.62 करोड़ रुपए खर्च हो गए हैं। राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी के एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने जानकारी दी कि रेलवे स्टेशन के उन्नयन पर कुल 296.32 करोड़ रुपए एवं मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन के लिए 442.01 करोड़ सहित 738 करोड़ रुपए मंजूर किए गए। दोनों रेलवे स्टेशन के टेंडर अवार्ड कर दिया गया है।

बिहार के इन रेलवे स्टेशनों को अत्याधुनिक बनाया जाएगा साथ ही यहां यात्रियों को जो सुविधाएं मिलेंगी उसमें उन्नयन अंतर्गत रूफ प्लाजा, प्रतीक्षालय, लाउंज, कैफेटेरिया, शॉपिंग एरिया, वाइ-फाइ, लिफ्ट, एटीएम, एक्सीलेटर आदि शामिल है।

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने जानकारी दी कि एक अप्रैल, 2022 तक बिहार में 66,597 करोड़ रुपए खर्च कर 5,004 किमी लंबाई की कुल 52 परियोजनाएं, जिसमें 32 नई लाइन, चार आमान परिवर्तन तथा 16 दोहरी करण योजना निष्पादित की जा रही है। इसमें 1240 किलोमीटर लंबाई का काम पूरा हो गया है और मार्च, 2022 तक 21,030 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं।

एक अन्य सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बिहार में रेल परियोजनाओं पर 2009 से 14 के बीच प्रतिवर्ष 1,132 करोड़ रुपए खर्च किया गया जो 2017 के बाद वृद्धि होकर प्रति वर्ष 3061 करोड़ हो गया। यह 170 प्रतिशत अधिक है। बिहार में बीते चार सालों में रेलवे ने कुल 20,748 करोड़ बजट आवंटित किया जो कांग्रेस के कार्यकाल के मुकाबले 484 प्रतिशत अधिक है।