Connect with us

BIHAR

पटना मेट्रो का यह स्टेशन मल्टीमॉडल हब के रूप में किया जाएगा विकसित, जानें कब तक होगा निर्माण

Published

on

पटना मेट्रो रेल प्रोजेक्ट कॉरिडोर-टू लास्ट स्टेशन पाटलिपुत्र बस टर्मिनल मेट्रो स्टेशन पटना में मॉडल हब के रूप में बनेगा। सांभर 25th का निर्माण हो जाने वाला यह अलग-अलग परिवहन सिस्टमों मल्टी मॉडल सुविधा देने वाला स्टेशन होगा। निकटवर्ती पाटलिपुत्र बस स्टैंड से इसका डायरेक्ट संपर्क होगा।

बता दें कि पटना मेट्रो रेल परियोजना के कॉरिडोर- 2 के 6.5 किमी लंबे हिस्से में 5 एलिवेटेड स्टेशन होंगे। इनमें जैसे खेमनी चक, मलाही पकरी, जीरो माइल, भूतनाथ और पाटलिपुत्र बस टर्मिनल है। खेमनी चक मेट्रो स्टेशन कॉरिडोर- वन और कॉरिडोर- टू दोनों के बीच इंटरचेंज स्टेशन बनेगा। पटना मेट्रो प्रोजेक्ट ने बुधवार को इस बारे में जानकारी दी है।

प्रतीकात्मक चित्र

मेट्रो स्टेशन पटना-गया रोड (नेशनल हाईवे -1) पर पाटलिपुत्र बस बस स्टैंड काफी नजदीक है, जो प्रदेश के लगभग हर हिस्से एवं पड़ोसी राज्यों को जोड़ते हैं। पाटलिपुत्र बस टर्मिनल के कैंपस के अंदर दो प्रवेश और निकास, छह एलिवेटर एवं चार लिफ्ट की योजना बन रही है। यहां एक फुट ओवर ब्रिज बनाया जाएगा, जो मेट्रो स्टेशन से जुड़ेगा। स्टेशन पाटलिपुत्र बस टर्मिनल के ट्रैफिक को संभालने के साथ ही आरपीएस स्कूल, संपचक, इलाहीबाग और एसएच -1 आने वाले सभी ट्रैफिक को सुविधा होगी।

पाटलिपुत्र बस टर्मिनल मेट्रो स्टेशन पर पिक/ड्रॉप सुविधा और अस्थायी पार्किंग की सुविधा के लिए मल्टीमॉडल एकीकरण की व्यवस्था होगी। निजी एवं मध्यवर्ती सार्वजनिक परिवहन मोड के द्वारा पिक/ड्रॉप सुविधा के लिए, हर स्टेशन के एंट्री/एग्जिट में चार ऑटो तथा दो टैक्सी-बे होंगे। यात्रियों के आने-जाने की सुविधा के लिए मेट्रो स्टेशन में छह एस्केलेटर और चार लिफ्ट होंगे। स्टेशन में बड़ा पार्किंग जोन होगा जो बख्तियारपुर और महात्मा गांधी सेतु की तरफ आने वाले यात्रियों को सुविधा देगा।

मालूम हो कि कॉरिडोर-टू के इन पांच स्टेशनों का निर्माण साल 2020 में शुरू हुआ और 2025 तक इसका निर्माण पूरा हो जाने की उम्मीद है। 32.5 किमी लंबी पटना मेट्रो रेल प्रोजेक्ट में दानापुर-मीठापुर-खेमनी चक कॉरिडोर (लाइन -1) तथा पटना रेलवे स्टेशन- पाटलिपुत्र बस टर्मिनल (लाइन- 2) शामिल है। इससे राजधानी के 20 लाख से अधिक यात्रियों को सहुलियत होगी।