Connect with us

BIHAR

बदल जाएगा Patna Airport का लुक, युद्ध स्तर निर्माण जारी, यात्री सुविधाओं में होगा इजाफा।

Published

on

बिहार के लोगों के लिए गुड न्यूज़ है। जल्द ही पटना एयरपोर्ट का कायाकल्प होने वाला है। इस संबंध में सांसद सुशील मोदी ने राज्यसभा में सवाल किया। केंद्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री वीके सिंह ने इस सवाल के जवाब में राज्यसभा में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पटना के जेपी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर नया टर्मिनल का निर्माण मार्च 2024 तक पूरा हो जाएगा। इसका 54 प्रतिशत काम पूरा हो गया है।

मंत्री जनरल वीके सिंह ने कहा कि पटना एयरपोर्ट पर स्टेट हैंगर, वीआईपी लाउंज और फ्लाइंग क्लब बिल्डिंग अगले साल के जून तक बन जाएंगे। पटना एयरपोर्ट के पुनर्विकास का काम साल 2019 में शुरू हुआ था। दो मंजिला टर्मिनल भवन में पहले फ्लोर पर प्रस्थान लाउंज और ग्राउंड फ्लोर पर आगमन क्षेत्र होगा। यह सालाना 80 लाख यात्रियों को संभालेगा।

उन्होंने जानकारी दी कि कंट्रोल टावर सह तकनीकी ब्लॉक, कार्गो भवन और फायर स्टेशन का निर्माण 91 प्रतिशत पूरा हो गया है। ये इस वर्ष सितंबर में पूरी हो जायेंगे। बिहार सरकार के हैंगर, वीआइपी लाउंज और फ्लाइंग क्लब बिल्डिंग् व अन्य कार्य 54 फीसद हो चुके हैं‌। ये जून, 2023 में पूरा होने का लक्ष्य तय है। वहीं, एयरपोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया की मानें तो पटना एयरपोर्ट के आधुनिकीकरण पर कुल 1216.90 करोड़ रुपए खर्च होंगे। नये टर्मिनल भवन का निर्माण का 54 प्रतिशत पूरा हो चुका है। इसका निर्माण मार्च, 2024 तक पूरा होगा।

बिहटा एयरपोर्ट के बारे में मंत्री ने जानकारी दी कि बड़े विमानों के परिचालन के लिए बिहार सरकार से 199.5 एकड़ अतिरिक्त जमीन की मांग की गई है। बिहटा एयरपोर्ट के विस्तार के संदर्भ में सुशील मोदी के एक और प्रश्न का जवाब देते हुए मंत्री ने कहा कि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने राज्य सरकार को रेलवे के विस्तार के लिए 191.5 जमीन की जरूरत का अनुमान लगाया है, ताकि चौड़ी बॉडी वाले विमानों के संचालन के लिए उपयुक्त बनाया जा सके।

वहीं, बिहार सरकार का कहना है कि बिहटा एयरबेस से वाणिज्यिक उड़ान परिचालन शुरू करने के लिए मूल तौर पर मानी गई जमीन दे दी गई है। मुख्य सचिव आमिर सुबहानी ने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सचिव को लेटर लिखकर कहा था कि बिहटा एयरपोर्ट पर राज्य सरकार के द्वारा सिविल एन्क्लेव के विकास के लिए भूमि प्रदान की गई। जमीन पर जल्द से जल्द निर्माण शुरू होना चाहिए। उन्होंने कहा था कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय के द्वारा मांगी गई 108 एकड़ जमीन दे दी गई है।