Connect with us

BIHAR

बिहार में शेरपुर-दिघवारा सिक्स लेन पुल के निर्माण का रास्ता हुआ साफ, राज्य के इन जिलों को मिलेगा सीधा लाभ

Published

on

शेरपुर-दिघवारा सिक्स लेन ब्रिज निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण के बाद निर्माण शुरू करने हेतु बिहार सरकार ने टेंडर जारी कर दिया है। राज्य सरकार की अपील पर केंद्रीय सड़क परिवहन एवं हाईवे मंत्रालय ने एनएच-131जी पर पटना रिंग रोड के तहत गंगा नदी पर बनने वाले शेरपुर-दिघवारा सिक्स लेन नए पुल और पहुंच पथ के निर्माण कार्य हेतु टेंडर निकाला है।

पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने इस बाबत जानकारी दी कि टेंडर प्राप्ति की आखिरी तारीख 12 सितम्बर 2022 है। इस प्रोजेक्ट की टोटल प्राक्कलित राशि 4994.79 करोड़ रुपए है। यह परियोजना कुल 14.520 किमी लंबी है। मंत्री ने कहा कि या प्रदेश की काफी महत्वपूर्ण परियोजनाओं में से एक है।

इस पुल के बनने से पटना और सारण जिला जुड़ेगा। जिससे दक्षिण बिहार और उत्तर बिहार के बीच सीधा और सुगम संपर्क स्थापित होगा। इस काम की टेंडर जारी होने से मार्ग के आधारभूत ढांचे के विकास से नए रास्ते खुलेंगे।‌ मंत्री ने कहा कि इस पुल के बनने से जेपी सेतु पर गाड़ियों का लोड कम होगा और सारण जिला की ओर से आने वाली बहाने जो उत्तर बिहार की ओर जाती है, वह पटना में प्रवेश किए बिना ही निकल जाएंगे।

इसलिए राजधानी में ट्रैफिक का लोड कम होगा। पुल निर्माण के बाद 10 साल तक एजेंसी को रखरखाव करना होगा। पुल निर्माण कार्य साढ़े तीन साल में पूरा कराने का लक्ष्य रखा गया है। यह पुल एनएच-30 शेरपुर में शुरू होगा और छपरा के दिघवारा में एनएच-19 पर खत्म होगा। बता दें कि राजधानी में गंगा नदी के ऊपर बनने वाला यह पांचवा पुल होगा। पुल का संपर्क पथ कन्हौली रामनगर में पटना रिंग रोड के मार्गरेखन से जुड़ेगा।

राज्य सरकार को इस परियोजना के लिए जमीन अधिग्रहण का राशि वहन करना है। मंत्री ने कहा कि भविष्य में इस पुल को जेपी गंगा पथ से जोड़ने की तैयारी है, जिसे राजधानी वासियों को स्कूल के सहारे छपरा, सीवान और गोपालगंज के साथ ही उत्तर बिहार के दूसरे इलाकों में जाना सुविधाजनक हो जाएगा। पुल निर्माण होने से तीनों जिलों के लोगों को सीधा कनेक्शन बन रहे बिहटा एयरपोर्ट से होगा। इन जिलों के वासियों को पटना आने के लिए सोनपुर, शीतलपुर या हाजीपुर की ओर आने की जरूरत नहीं होगी। इसके साथ ही छपरा शहर से बिहटा एयरपोर्ट की दूरी 30 से 40 किलोमीटर तक कम होगी।