Connect with us

BIHAR

बिहार के इस जिले में बनेगा इंडस्ट्रियल कॉरिडोर कलस्टर, 1200 एकड़ जमीन का हुआ अधिग्रहण, बनेगा उद्योग का हब

Published

on

बिहार के गया में अमृतसर-कोलकाता औद्योगिक गलियारा प्रोजेक्ट के तहत 1670 एकड़ जमीन पर औद्योगिक विनिर्माण क्लस्टर विकसित होगा। इसके लिए 1200 एकड़ भूमि अधिकरण हो गई है। सितंबर महीने तक बाकी जमीन का अधिग्रहण कर लिया जाएगा। इसके लिए उद्योग विभाग ने दो इंस्टॉलमेंट में 83 करोड़ रुपए इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट अथॉरिटी को दिया है। गुरुवार को दिल्ली में बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने औद्योगिक गलियारा विकास प्रोग्राम की शीर्ष निगरानी अथॉरिटी की पहली बैठक में इस बारे में जानकारी दी।

उद्योग मंत्री ने भरोसा दिया कि बिहार के औद्योगीकरण को सुनिश्चित करने हेतु केंद्र सरकार की तमाम योजनाओं को तत्परता से पूरा करेगा। गया, डोभी में औद्योगिक गलियारा उद्योग विभाग एवं बिहार औद्योगिक प्राधिकरण के द्वारा राष्ट्रीय औद्योगिक गलियारा विकास एवं कार्यान्वयन ट्रस्ट की मदद से विशेष प्रयोजन वाहन के जरिए स्थापित किया जा रहा है। शाहनवाज हुसैन ने पीएम मित्रा पार्क को बिहार को दिलाने के लिए अपना पक्ष रखा।

उद्योग मंत्री ने कहा कि पश्चिमी चंपारण जिले में कपड़ा उद्योग हेतु 1719 एकड़ जमीन चिन्हित हो गई है। उन्होंने पीएम गति शक्ति के दूसरे पार्ट के तहत प्रदेश को 503 करोड़ की राशि आवंटन कराने के लिए भारत सरकार का शुक्रिया अदा किया और कहा कि बिहार पूरे देश का टेक्सटाइल हब सन सकता है। उन्होंने कहा कि बिहार में कपड़ा उद्योग के लिए पर्याप्त रूप से प्रशिक्षित मैन पावर है।

उन्होंने कहा कि कुशीनगर एयरपोर्ट निर्माण के साथ ही, शानदार संपर्क और अंतरराष्ट्रीय हवाई संपर्क स्थापित हो गया है। जिस तरह बिहार में उद्योग लगाने के लिए विशाल भूमि लैंड उपलब्ध है, यदि अलग-अलग प्रोजेक्ट के तहत केंद्र को दिए गए प्रस्तावों पर मंथन करते हुए 1200 करो रुपए उपलब्ध कराए जाते हैं तो प्रदेश के औद्योगीकरण को काफी रफ्तार मिलेगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बैठक की अध्यक्षता कर रही थी उन्होंने बिहार को फ्रेंड पार्क दिलाने के पक्ष में बातें कहीं। इस बैठक में 6 राज्य के मुख्यमंत्री और 18 प्रदेशों के प्रतिनिधि मौजूद थे।