Connect with us

BIHAR

बिहार से झारखंड के बीच इस फोरलेन सड़क के निर्माण का रास्ता हुआ साफ, कम समय में पूरा होगा सफर

Published

on

बिहार और झारखंड को कनेक्टिविटी प्रदान करने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग-133बी के चौड़ीकरण की बड़ी बाधा दूर कर ली गई है। झारखंड के साहिबगंज से बिहार के मनिहारी को संपर्क स्थापित करने वाले इस महत्वपूर्ण हाईवे के चौड़ीकरण का काम जमीन की कमी के चलते बाधित थी। किंतु अब राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने हाइवे निर्माण के लिए 5 हेक्टेयर जमीन दे दी है।

बता दें कि बिहार कैबिनेट से बीते महीने ही एनएच-133 भी चौड़ीकरण प्रस्ताव को स्वीकृति मिली है। जिसके बाद राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के द्वारा इसके लिए नोटिस जारी किया गया है। सड़क के चौड़ीकरण होने से हाईवे पर तेज गति में गाड़ियां जा सकेंगे। जिसके चलते अब सफर कम समय में पूरा हो जाएगा।

प्रतीकात्मक चित्र

यह सड़क मनिहारी और झारखंड के साहिबगंज को एक साथ जोड़ेगी। कटिहार के मनिहारी प्रखंड के कुछ हिस्सों में लंबे समय से सड़क चौड़ीकरण के लिए भूमि की मांग हो रही थी। सड़क चौड़ीकरण में तकरीबन 2000 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है।

उधर, गंगा नदी के ऊपर मनिहारी से साहिबगंज के बीच फोरलेन पुल का निर्माण जारी है। साल 2017 में पीएम मोदी ने पुल के निर्माण की नींव रखी थी। सड़क के लिए उपयोग में आने वाली यह जमीन मनिहारी प्रखंड के मोहनपुर, हंसवर, केवाला, मोहनपुर, मीरगंज, मिर्जापुर, आदि गांवों की है। पूरी जमीन में से कुछ जमीन पथ निर्माण विभाग की है। जिसे प्रदेश की सरकार ने एनएच निर्माण के लिए फ्री में दे दी है। लेकिन शर्त रखा है कि सड़क निर्माण नहीं होता है तो जमीन वापस सरकार ले लेगी।