Connect with us

BIHAR

राष्ट्रीय राजमार्ग 333ए के निर्माण की कवायद हुई तेज, सिमुलतला इलाके के लोगों को मिलेगी लाभ।

Published

on

नेशनल हाईवे-333 ए का थ्रीडी जल्द ही बनकर तैयार हो जाएगा। यह बातें गुरुवार को कार्यपालक इंजीनियर रविंद्र कुमार ने कहीं। उन्हें जानकारी दी कि काफी तेज गति से नेशनल हाईवे-333ए का काम चल रहा है। उन्होंने उम्मीद जताते हुए कहा कि आने वाले छह महीने में धरातल पर काम दिखाई देगा।

मालूम हो कि नेशनल हाईवे 333ए का निर्माण बरबीघा से पंजवारा तक प्रस्तावित है। सड़क निर्माण की प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही शिमूलतला इलाके के लोगों में खुशी देखी जा रही है। वजह यह है कि सिमुलतला में यह रास्ता बाजार के बीच से होकर गुजर रहा है। एलाइनमेंट के अनुसार लोहिया चौक बाजार से थोड़ी दूरी पर ग्राम भारतीय सर्वोदय आश्रम के बीच से सिमुलतला बाजार होते हुए गोपाल मंदिर की राष्ट्रीय मार्ग दो लेन का होगा।

मिली जानकारी के मुताबिक, 75 फीसद जमीन मालिक या जमीन के नेचर की जानकारी हासिल हो चुकी है। बाकी बची जमीन के बारे में अंचलाधिकारी के जरिए पता लगाया जा रहा है। जमीन की तमाम जानकारी उपलब्ध होते ही निर्माण की प्रक्रिया शुरू होगी। भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया आरंभ होगी। लोक समिति से सड़क निर्माण से जुड़े हुए डीपीआर को स्वीकृति मिल चुकी है। केंद्र ने सड़क निर्माण हेतु 900 करोड़ आवंटित किए हैं। पिछले दिनों ही उन्हें जून को नेशनल हाईवे 333ए के संबंध में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने अधिसूचना जारी की है।

नेशनल हाईवे में 14 बाईपास तथा दो रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण होना है। नरगंजो और शेखपुरा में रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण होना है। शेखपुरा, जमुई, सिकंदरा, खैरा, केंदुआ, मांगोबंदर, सोनो, नरगंजो, झाझा, भैरोगंज, बांका, कटोरिया, पंजवारा और लकपुरा में बाईपास का निर्माण होने का प्रस्ताव है। पुराने पुलों को तोड़कर आठ नए पुल का निर्माण किया जा रहा है। जमुई जिले में 14 में से आठ बाईपास का निर्माण होना है।

सड़क की कुल लंबाई 190.20 किलोमीटर है। इसमें जमुई- 4.311 किमी, सिकंदरा- 2.758 किमी, मांगोबंदर- 1.894 किमी, खैरा- 3.927 किमी, केंदुआ- 2.070 किमी, झाझा- 8.869 किमी, सोनो- 1.746 किमी, नरगंजो- 1.972 किमी, कटोरिया – 1.681 किमी, भैरोगंज- 2.029 किमी, बांका- 7.194 किमी, पंजवारा- 1.940 किमी, लकपुरा-3.620 किमी का बाईपास है। सड़क के लिए छह बड़ा पुल, 62 छोटा पुल, दो रेलवे ओवरब्रिज, एक रेलवे अंडर ब्रिज, 388 पुलिया, 35 बड़ा जंक्शन जबकि 120 छोटा जंक्शन का निर्माण होना है।