Connect with us

BIHAR

बिहार-झारखंड बॉर्डर स्थित महाराजगंज से मेंहदिया तक तेजी से हो रहा सड़क निर्माण, आवागमन होगा आसान

Published

on

बिहार-झारखंड बॉर्डर महाराजगंज (संडा) राष्ट्रीय राजमार्ग-139 से मेहंदिया तक निर्माण होने वाली सड़क बनाने का काम काफी तेजी से किया जा रहा है। बरसात के सीजन को देखते हुए संडा से देव तक लगभग 8 किलोमीटर में दोनों तरफ मिट्टी भराई का काम भी हो रहा है। पुलियों एवं क‌र्ल्वट का निर्माण चल रहा है।

यह रोड अरवल औरंगाबाद जिले के छह ब्लॉक को जोड़ रही है। कुटुंबा के महाराजगंज से यह रोग देव के बालूगंज, बेढ़नी, बहुआरा मोड़,चांदपुर, देव, सदर प्रखंड के ओरा, बघोई रेलवे स्टेशन, सोखेया, बघोईकला, गोह के देवहरा, बांसाटाड़, देवकुंड, अरवल के केयाल के रास्ते मेहंदिया नेशनल हाईवे-139 (पटना मुख्य पथ) तक इस सड़क का निर्माण होगा।

प्रतीकात्मक चित्र

बता दें कि लगभग 76 करोड़ की राशि खर्च कर 78 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण किया जाना है। सड़क की कुल चौड़ाई 18 फीट होगी। रोड के दोनों तरफ तीन-तीन फीट फ्लैंक का निर्माण किया जाना है। पथ निर्माण विभाग की ओर से सड़क बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई एजेंसी के द्वारा आनंदपुरा गांव के नजदीक कैंप लगाया गया है। सड़क निर्माण में पथ निर्माण विभाग के मुताबिक भूमि का अधिग्रहण नहीं होना है। सड़क के निर्माण से नक्सल क्षेत्र में विकास को रफ्तार मिलेगी और सड़क बन जाने से अरवल एवं औरंगाबाद जिले के सैकड़ों गांव को आने-जाने के लिए चौड़ी सड़क उपलब्ध हो जाएगी। मौजूदा समय में लोगों को सिंगल सड़क के रास्ते सफर करना पड़ रहा है।

देव के साथ ही दूसरे नक्सल प्रभावित क्षेत्र के लोगों को भी लाभ मिलेगा। ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को जीवन‌ स्तर बदलने की उम्मीद है, एवं गाड़ियों का आना-जाना बढ़ेगा। ढिबरा थाना एकला का आज भी नक्सल से प्रभावित है। इस थाना इलाके के जंगल में हमेशा ही नक्सलियों का बोलबाला रहता है। सड़क के बन जाने से जिला पुलिस, एसटीएफ, एसएसबी और सीआरपीएफ के सुरक्षाबलों को नक्सल के विरुद्ध मुहिम चलाने में सहूलियत मिलेगी। देव की और पहुंचने वाले छठ व्रतियों को भी खासा लाभ होगा।

पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक इंद्रजीत कुमार आर्य बताते हैं कि सड़क का निर्माण काफी तेजी से चल रहा है। संडा से देव तक लगभग 19 क्लवर्ट और पुलियों का निर्माण हो चुका है। सड़क के दोनों तरफ मिट्टी भराई का काम चल रहा है। बरसात के मद्देनजर पक्की सड़क को कोई क्षति नहीं किया जा रहा है।