Connect with us

BIHAR

बिहार के बांका में पर्यटन को मिलेगा नया आयाम, दोगुनी होगी पर्यटकों की संख्या, होंगे 54 करोड़ खर्च

Published

on

बांका जिले के बौंसी अंचल स्थित मंदार में पर्यटकों को लुभाने के लिए तकरीबन छह करोड़ की राशि खर्च कर रोप-वे चालू किया गया है। फिलहाल यहां तकरीबन 54 करोड़ रुपए खर्च कर मंदार का विकास किया जा रहा है। इससे आगामी दिनों में मंदार इलाके का विकास होगा। रोप-वे का शुभारंभ 21 सितंबर 2021 को राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया था। तब से यहां लाखों पर्यटक आ चुके हैं। उस समय के जिलाधिकारी सुहर्ष भगत ने मंदार पहाड़ की परिक्रमा हेतु चिकनी सड़क का निर्माण करवाया है।

देश और विदेश के पर्यटक आकर्षित हो इसके लिए मंदार के नजदीक 5 करोड़ की राशि खर्च आर्ट एंड क्राफ्ट विलेज पार्क का निर्माण चल रहा है। पिछले दिनों ही जिलाधिकारी अंशुल कुमार ने रोप-वे का मुआयना किया और सुविधा बढ़ाने का निर्देश दिया। डीएम का कहना है कि टूरिस्टों की संख्या बढ़ने से टूरिस्ट पैलेस इसी बदलेगी और लोगों को रोजगार मिलेगा। इन दिनों मंदार में सात करोड़ रुपए खर्च कर रोप-वे, पेयजल सेंटर, रेन शेल्टर, पार्किंग एरिया, कामधेनु मंदिर का सौंदर्यीकरण, कैफेटेरिया, सोलर लाइटिंग, सिटिंग बेंच सहित अन्य निर्माण चल रहा है।

विशेष तौर पर मंदार में रोप-वे के शुरू हो से पर्यटकों की संख्या में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। इसके साथ ही वन एवं पर्यावरण विभाग के द्वारा मंदार की तराई इलाके में बायोडायवर्सिटी पार्क का निर्माण करवाया जा रहा है। यहां जनवरी के महीने में तीनों धर्म के लोग इकट्ठे होते हैं। पूजा अर्चना के लिए सनातन धर्म के साथ ही जैन धर्म और सफा धर्म के अनुयायी भी जुटते हैं। मकर सक्रांति के मौके पर 14 जनवरी पर मंदार की तराई इलाके में विशाल मेला का आयोजन होता रहा है। जिसमें देशभर के भक्तजन अलग-अलग धर्मों के जुटते हैं।

शास्त्रों में मंदार का खास महत्त्व है। कहा गया है कि भगवान और दानव के बीच युद्ध हुआ तो मंदार को मथानी के तौर पर समुद्र मंथन हुआ था। इसकी तरह इलाके में पवित्र पापहरणी सरोवर है। इस पवित्र सरोवर का ऐतिहासिक एवं धार्मिक महत्व है। तालाब के बीच देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु का मंदिर है। प्रशासन के द्वारा एक योजना तैयार कर पापहरणी सरोवर को साफ करने की रणनीति बनाई गई है।