Connect with us

BIHAR

मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी रोड बनेगा फोरलेन, कांटी में सर्विस रोड और अंडरपास का होगा निर्माण

Published

on

मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी नेशनल हाईवे अब फोरलेन बनेगा। इसके लिए प्रशासनिक रूप से तैयारी शुरू कर दी गई है। डीपीआर नवंबर तक बन जाएगा। फिर अगले साल यानी 2023 में निविदा की प्रक्रिया कर से चयनित कार्य एजेंसी के जरिए मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी नेशनल हाईवे का निर्माण शुरू करा दिया जाएगा।

सड़क परिवहन एवं हाईवे मंत्रालय के द्वारा प्रशासनिक रूप से कार्रवाई शुरू कर दी गई है। इसके साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग 28 के चांदनी चौक से मुजफ्फरपुर सुधा डेयरी के रास्ते कांटी छिन्नमस्तिका तक ब्लैक स्पॉट को समाप्त करने के लिए एक अंडरपास एवं सर्विस रोड बनाया जाएगा। बता दें कि इन दोनों जगह पर लगातार सड़क हादसे से लोगों को अपना जान गंवाना पड़ता है।

प्रतीकात्मक चित्र

रोड सेफ्टी ऑडिट रिपोर्ट के आधार पर मंत्रालय ने मां छिन्नमस्तिका मंदिर के नजदीक लाइट व्हीकल अंडरपास के साथ सर्विस रोड निर्माण के लिए डीपीआर बनाई है, जिसके लिए अंतिम दौर में टेंडर की प्रक्रिया है। इसके साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग 28 और 57 के मध्य t-junction के चलते लोगों को सड़क हादसे की उम्मीद बनी रहती है। इसे रोकने हेतु सुधा डेयरी के नजदीक नया फ्लाईओवर का निर्माण किया जाएगा। मंत्रालय ने इसके लिए सीपीसीएल कंट्रक्शन एजेंसी को चयनित किया है। एजेंसी सर्वे करने के बाद डीपीआर तैयार करने में जुटी हुई है।

नेशनल हाईवे-102 के छपरा-रेवा घाट के फकीरा चौक तक रोड हादसों को कम करने हेतु चेतावनी बोर्ड जगह-जगह पर लगाया जा रहा है। इसके साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग 27 एवं 22 के बन रहे बाईपास का निर्माण पूरा हो जाने के बाद यातायात व्यवस्था में सुधार आएगा और जिससे सड़क हादसों में कमी आएगी।

नेशनल हाईवे-122 मुजफ्फरपुर समस्तीपुर के दिघरा, गोबरसही और काजीइंदा के नजदीक लगातार हो रहे सड़क हादसों को रोकने के लिए अल्टीमेटम वाला साइन बोर्ड लगाने के साथ ही रंबल स्ट्रीप और पेडेस्ट्रियन क्रॉसिंग का निर्माण हो रहा है। आने वाले समय में सड़क की चौड़ाई को बढ़ाने और बाईपास बनाने के साथ ही गोबरसही के नजदीक सर्विस रोड से अतिक्रमण मुक्त करने का आदेश दिया गया है।

मुजफ्फरपुर से निकलने के बाद मोतिहारी, सीतामढ़ी समस्तीपुर और रेवा रोड में पताही के नजदीक सड़क हादसों की शिकायत लगातार आ रही है। दो महीने के अंदर ही दर्जन भर लोगों की मृत्यु हो गई है। यह मामला जब सड़क परिवहन एवं हाईवे मंत्रालय के पास पहुंचा तब जगह-जगह पर अल्टीमेटम वाला साइन बोर्ड, पेडेस्ट्रियन क्रॉसिंग, रंबल स्ट्रीप, रोड स्टड इत्यादि की व्यवस्था की जा रही है।

मुजफ्फरपुर के नेता सुरेश शर्मा ने केंद्र सरकार के परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को खत लिखकर 25 मई को इस बारे में शिकायत दर्ज कराई थी। केवल 5 दिनों के भीतर ही पूर्व मंत्री ने जिन-जिन बातों को लेटर के जरिए गडकरी तक पहुंचाया था, उसके बाद जरूरी कार्रवाई की जा रही है। मंत्रालय के द्वारा कामों से रूबरू कराते हुए सभी जवाब भेजे गए हैं।