Connect with us

BIHAR

भागलपुर में कार्गो शिप के लिए बनेगा 6 जगहों पर टर्मिनल, NH 80 और विक्रमशिला पुल पर कम होगा ट्रैफिक लोड‌

Published

on

भागलपुर के रास्ते गंगा नदी से होकर गुजरने वाले नेशनल जलमार्ग संख्या-1 जल परिवहन के संचालन हेतु 6 जगहों पर कार्गो जहाज टर्मिनल बनाया जाएगा। गंगा के किनारे चार जगहों पर कम्युनिटी जेटी आरओ टर्मिनल का निर्माण होगा। दो स्थानों पर रोल ऑन रोल ऑफ टर्मिनल का निर्माण हुआ। जगह को चयनित करने के लिए और तमाम सुविधाओं को उपलब्ध कराने हेतु 3 एसडीओ को आदेश दिया गया है। अपर समाहर्ता ने भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण की मांग पर जिले के तीन अनुमंडल पदाधिकारी को तैयार करने को कहा है।

जानकारी के अनुसार जिले के कहलगांव, बटेश्वर स्थान, तीनटंगा और सुल्तानगंज में कम्युनिटी जेटी आरओ टर्मिनल का निर्माण होगा। जबकि रोल ऑन-रॉल ऑफ टर्मिनल तीनटंगा और कहलगांव में बनेगा। रोल ऑन-रॉल ऑफ टर्मिनल पर रैंप की तरह सुविधा होती है। जिससे भारी गाड़ियों को रैंप के मदद से डायरेक्ट कार्गो जहाज तक पहुंचाया जाता है। टर्मिनल तक पहुंचने हेतु संपर्क पथ बनाया जाएगा। इसके अतिरिक्त टर्मिनल पर टिकट घर, वेटिंग रूम, टॉयलेट आदि बनाया जाएगा।

अधिकारी बताते हैं कि बंगाल के हल्दिया से यूपी के इलाहाबाद तक राष्ट्रीय जलमार्ग सं.-1 है। बरारी घाट से विक्रमशिला सेतु के समांतर उत्तर की दिशा में कार्गो जहाज के लिए जल मार्ग का निर्माण होगा। नदीपैथी में जहाज के गुजरने के लिए ढाई मीटर गहराई में तो 40 मीटर चौड़ी जगह की जरूरत है। इसके लिए आल्हा से अधिक हिस्सों का सर्वे सीनियर हाइड्रोग्राफी सर्वेयर डीपी सिंह एवं उनके सहायक अनुपम सिन्हा के साथ ही 22 क्रू मेंबर ने किया। आईडब्ल्यूएआई क्या अधिकारी प्रशांत कुमार बताते हैं कि गंगा नदी से गुजर रही 1680 किलोमीटर लंबा प्रयागराज हल्दिया रूट को भारत में जलमार्ग विकास परियोजना के तहत राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या-1 का दर्जा दिया गया है। जेटी सेवा शुरू करने के लिए मंत्रालय ने भागलपुर में प्रस्ताव आया था।

राजेश झा राजा बताते हैं कि भागलपुर में कम्युनिटी जेटी के निर्माण से छोटे बड़े जहाज रुक सकेंगे। फेरी सेवा के साथ ही माल की धुलाई होगी। कम्युनिटी जेटी से कहलगांव से सुल्तानगंज, भागलपुर से नवगछिया और गंगा के दूसरे तरफ भी लोग जा-आ सकेंगे। 200 टन कैपेसिटी वाले जहाज में 200 लोग सवार हो सकते हैं वह अपना ट्रक, चार चक्का गाड़ी और मोटरसाइकिल भी लोड कर सकते हैं। इसके लिए जमीन चयनित करने का प्रस्ताव मांगा गया था। टर्मिनल बन जाने से एनएचसी और विक्रमशिला पुल पर ट्रैफिक लोड भी घटेगा।