Connect with us

BIHAR

बिहार के इस जिले में 1700 एकड़ में बनेगा टेक्सटाइल पार्क, सृजित होंगे रोजगार के अवसर

Published

on

बिहार कैबिनेट से टेक्सटाइल पॉलिसी को मंजूरी मिलने के बाद पश्चिमी चंपारण में बनने वाले मेगा इंटीग्रेटेड टैक्सटाइल रिजन एवं अपैरल पार्क को लेकर उम्मीद बढ़ गई है। प्रधानमंत्री मित्र स्कीम के तहत मधुबनी, बगहा और भितहां प्रखंड में 1700 एकड़ गवर्नमेंट की जमीन चिन्हित कर ली गई है। कपड़ा मंत्रालय की 3 सदस्य टीम ने 30 अप्रैल को इसका निरीक्षण भी किया है। केंद्र सरकार से मंजूरी मिल जाती है तो यहां के उद्यमियों को दोनों तरफ से लाभ मिलेगा। केंद्र और राज्य सरकार दोनों से उन्हें अनुदान मिलेगा।

बता दें कि देश भर में 7 मेगा इंटीग्रेटेड टैक्सटाइल पार्क का निर्माण प्रधानमंत्री मित्र योजना के तहत किया जाना है। इसके लिए अलग-अलग राज्यों से प्रस्ताव भी मांगा गया था। उद्योग विभाग का प्रमुख सचिव के द्वारा सभी जिलों के जिलाधिकारी से प्रस्ताव भेजने को 15 मार्च तक डेट दिया था। मुजफ्फरपुर में जमीन तो तराशा गया लेकिन कोई सफलता नहीं मिली।

प्रतीकात्मक चित्र

पश्चिमी चंपारण में जमीन चिन्हित का प्रस्ताव सौंपने के बाद इसको लेकर तैयारी जोरों पर है। जिला के डीएम कुंदन कुमार बताते हैं कि प्रस्तावित स्थल का दौरा केंद्र सरकार के वस्त्र मंत्रालय के सचिव कर चुके हैं। 4 दिन पहले ही इस जगह से जुड़ी हुई ट्रैफिक की सुविधा, हवाई अड्डा की दूरी सहित दूसरी जानकारी भेजी गई है।

पश्चिमी चंपारण से सांसद एवं बिहार भाजपा के अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल कहते हैं कि पूरे देश में 7 मेगा टैक्सटाइल पार्क बनाने की योजना है। इसके लिए केंद्र सरकार को पूरे देश के 12 जगहों से प्रस्ताव मिला है। पश्चिमी चंपारण में टैक्सटाइल पार्क बनने की प्रबल संभावना है। इसके लिए कोशिश जारी है। प्रदेश सरकार की नई औद्योगिक नीति के मुताबिक के यहां के उद्यमियों को दो तरफा फायदा होगा।

टैक्सटाइल पार्क के लिए सरकार डेवलपमेंट कैपिटल मदद करेगी। इसका इस्तेमाल वहां संसाधनों के विकास पर किया जाएगा। इसमें वाटर वेस्ट प्रबंधन, पावर डिस्ट्रीब्यूशन, आधारभूत संरचना प्लग एंड प्ले मोड व सहित दूसरे कार्य होंगे। यहां प्रोसेसिंग, बुनाई, प्रिंटिंग एवं डाई से लेकर कपड़ों के निर्माण के अलावा दूसरा काम भी होगा। इसके साथ ही पार्क में इनक्यूबेशन सेंटर का निर्माण होगा।