Connect with us

BIHAR

पटना में प्लास्टिक कचरों से मिलेगी मुक्ति, इन जगहों पर लगाए गए रिवर्स वेडिंग मशीन, जानें खासियत

Published

on

पटना को साफ सुथरा रखने की दिशा में पटना नगर निगम के द्वारा एक और पहल शुरू कर दी गई है। पटना के लोगों के द्वारा उपयोग किया जाने वाला प्लास्टिक के पानी के बोतल, कोल्ड ड्रिंक का बोतल, बिस्किट के खाली पैकेट, जो दौरान तरह के चिप्स वाले पैकेट का रीसाइक्लिंग किया जाएगा। इसके लिए राजधानी के बोरिंग रोड चौराहा और मौर्या लोक कैंपस में रिवर्स बिल्डिंग मशीन लगाई गई है।

सीईई परियोजना और एचडीएफसी बैंक के तहत पहली बार राजधानी पटना में दोहरी व्यवस्था की गई है। दो कक्ष रिवर्स वेंडिंग मशीन में होंगे। अलग-अलग सामानों की रीसाइक्लिंग दोनों कक्षों में की जाएगी। एक बार यह मशीन 3000 बोतल को बोतल की रीसाइक्लिंग करने की क्षमता है। रीसाइक्लिंग होने के बाद इसे हाई प्लास्टिक मटेरियल में सेल किया जाएगा।

पटना में दो जगहों पर नगर आयुक्त के आदेश पर क्रशर मशीन लगाया जा रहा है। इसके बाहर पटना के बाकी जगह पर भी यह मशीन लगाया जाएगा जिससे आमजन भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। बता दें कि पटना नगर निगम के द्वारा निरंतर जारी का प्रोग्राम के जरिए आम लोगों में प्लास्टिक के बारे में सचेत किया जा रहा है। मशीन के द्वारा रिड्यूस, रिसाइकल और रीयूज के तहत आम जनों को रिसाइकिलिंग के लिए जागरूक किया जाएगा।

रिवर्स वेंडिंग मशीन की खूबियों की बात करें तो यह आधारित सिस्टम के जरिए बोतल के खाली और भरे होने का एनालिसिस करती है। मशीन खाली बोतल को स्वीकार करती है। भारी हुई बोतल मशीन एक्सेप्ट नहीं करती है। बोतल स्वीकार होने के पश्चात मशीन के डिस्प्ले में मोबाइल नंबर डालने और कस्टमर को मैसेज भेजने का विकल्प आता है। सौ फीसद कंटेनर भर जाने के बाद डिस्प्ले का मशीन पूरा संकेत दिखाई प्रतीत होता है।