Connect with us

BIHAR

बिहार में जेपी गंगा और इन दो स्टेट हाईवे का निर्माण इस साल होगा पूरा, इन जिलों को होगा सीधा लाभ

Published

on

बिहार में इस वर्ष जेपी गंगा पथ समेत दो स्टेट हाईवे का निर्माण पूरा होगा। गंगा पथ के पहले फेज के तहत दीघा घाट से एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट तक का उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथों 4 जून को होने की उम्मीद है। 2023 के अप्रैल तक दीदारगंज तक बाकी सड़क का निर्माण पूरा हो जाएगा।

जबकि लगभग 120 किलोमीटर लंबी बरुणा ब्रिज से रसियारी तक एसएस 88 और 67 किमी लंबाई में सीतामढ़ी के रुन्नीसैदपुर से एसएच-87 का निर्माण कार्य इस वर्ष पूरा होने का लक्ष्य है। इन सड़कों के निर्माण हो जाने से राजधानी पटना के साथ ही प्रदेश के मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, मधुबनी और सीतामढ़ी जिले वासियों को आने-जाने में सुविधा होगी। बीएसआरडीसीएल के देखरेख में तीनों सड़कों का निर्माण चल रहा है।

प्रतीकात्मक चित्र

सूत्र के मुताबिक के लगभग 4000 करोड़ रुपए की राशि खर्च कर 2013 के सितंबर से ही जेपी गंगा पथ का दीघा से दीदारगंज तक 20.5 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण जारी है। पहले चरण में 5.4 किलोमीटर लंबे एक्सप्रेस-वे का निर्माण दीघा से एएन सिन्हा पथ निर्माण पूरा हो चुका है। खबर मिली है कि 4 जून को मुख्यमंत्री नीतीश शुभारंभ करेंगे इसके बाद वाहनों का आना-जाना शुरू हो जाएगा।

इसके बाद दीघा से गांधी मैदान की ओर आने-जाने में लोगों को सुविधा होगी। लगभग 1126 करोड़ की राशि खर्च कर वर्ष 2015 से बरुणा ब्रिज से रसियारी तक स्टेट हाईवे 88 का निर्माण लगभग 120 किलोमीटर लंबाई में चल रहा है। मुख्य रुप से समस्तीपुर से होकर गुजरने वाली यह रोड को 2017 तक बनाने का लक्ष्य रखा गया था लेकिन भूमि अधिग्रहण व तकनीकी दिक्कतों के चलते इसमें देरी हुई है। अब इस वर्ष सड़क निर्माण पूर्ण होने की उम्मीद है।

जबकि वर्ष 2013 से ही तकरीबन 551 करोड़ की राशि खर्च कर सीतामढ़ी के रुन्नीसैदपुर से भिस्वा तक स्टेट हाईवे का निर्माण 67 किलोमीटर लंबाई में चल रहा है। इस सड़क के निर्माण होने से सीतामढ़ी के साथ ही मुजफ्फरपुर और मधुबनी जिले के वासियों को आने-जाने में सीधा लाभ मिलेगा। सड़क निर्माण में देरी आने का मुख्य बाजार भूमि अधिग्रहण और तकनीकी दिक्कतों को बताया गया है। अब इसी साल यह सड़क बनकर तैयार हो जाएगा।