Connect with us

BIHAR

बिहार के इस जिले से बांग्लादेश के बीच जानें कब से शुरू होगी मिताली एक्सप्रेस

Published

on

एक जून से भारत और बांग्लादेश के बीच वाली एक्सप्रेस पटरी पर दौड़ती नजर आएगी।‌ स्टूडेंट के शुरू होने से दोनों मुल्कों के बीच सामाजिक रिश्ता तो मजबूत होगा ही इसके साथ ही आर्थिक समृद्धि भी बढ़ेगी। कटिहार रेलवे डिवीजन क्षेत्र के न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे जंक्शन से बांग्लादेश के ढाका के बीच चलने वाली एक्सप्रेस को रेल मंत्री राजधानी दिल्ली से वर्चुअल मोड में हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे।

भारत और बांग्लादेश के बीच पैसेंजर ट्रेन के ऐलान के बाद से ही दोनों देश के रेल से सफर करने वाले यात्रियों में खुशी का माहौल है। कटिहार रेल डिवीजन के सीनियर डीसीएम प्रशांत जी बताते हैं कि मिताली एक्सप्रेस में पैसेंजर्स की सुविधा के लिए आठ विभिन्न तरह के कोच का प्रबंध किया गया है। जिसमें वातानुकूलित कोच की संख्या चार है जबकि चार चेयर कार लगाई गई है।

बता दें कि 17 सितंबर 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश के प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भारत के हल्दीबारी और बांग्लादेश के चिलाहाटी के बीच से रेल लिंक को मारवाड़ी यात्री ट्रैफिक के आवागमन के लिए खोल दिया था। माल गाड़ियों का परिचालन में अगस्त, 2021 से शुरू हुआ। दोनों देशों के प्रधानमंत्री के द्वारा 27 मई 2021 को मिताली एक्सप्रेस परिचालन का ऐलान किया गया। उसी समय से झांसी ट्रेन परिचालन की तैयारी चल रही थी परंतु कोरोना के चलते ट्रेन शुरू नहीं हो सका था।

बिहार यात्री संघ के सचिव मदन लाल मंडल बताते हैं कि दोनों मुल्कों के बीच ट्रेन परिचालन शुरू होने से व्यापारियों के साथ ही आम जनों को भी इसका लाभ मिलेगा। सीनियर डीसीएम बताते हैं कि बांग्लादेश और भारत को जोड़ने वाले पांच लिंक चालू किया गया है। जिनमें भारत के पेट्रापोल से बेनापाल (बांग्लादेश), भारत के गेदे से दर्शन (बांग्लादेश), भारत के सिंहाबाद से रोहनपुर (बांग्लादेश) एवं भारत का राधिकापुर लिंक शामिल हैं। भारत के हल्दीबाड़ी से बांग्लादेश का चिलाहाटी पांचवां लिंक है। चिलाहाटी और हल्दीबाड़ी स्टेशन के बीच का टोटल डिस्टेंस 7.5 किमी है।