Connect with us

BIHAR

बिहार के इन 3 जगहों में बनेगा लॉजिस्टिक पार्क, जाने क्या होगा लॉजिस्टिक पार्क का लाभ

Published

on

बिहार में पटना के फतुहा और बिहटा सहित रक्सौल जिले में लॉजिस्टिक पार्क का निर्माण होगा। प्रदेश सरकार इस संबंध में लॉजिस्टिक पॉलिसी बनाने में जुट गई है। इससे प्रदेश के व्यापार और उद्योग के विकास में सहयोग मिलेगा। कच्चा माल समय पर पहुंचेगा और तैयार उत्पाद भी बाजार तक पहुंचाने में सुविधा होगी जिससे रोजगार भी बढ़ेगा।

बता दें कि जब केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने पिछले दिन कोईलवर पुल का लोकार्पण किया तब उन्होंने प्रदेश सरकार को कहा था कि प्रदेश में विकास हेतु सड़क किनारे इंडस्ट्रियल क्लस्टर एवं लॉजिस्टिक पार्क का निर्माण होना चाहिए।

प्रतीकात्मक चित्र

कहा जा रहा है कि लगभग 100 हेक्टेयर में बिहटा में लॉजिस्टिक पार्क बनाया जाएगा। इसके लिए जमीन चयनित हो गई है, केवल औपचारिकता होना बाकी है। पटना के पश्चिम दिशा की ओर बिहटा है। पटना के पूरब में फतुहा है वहां भी लॉजिस्टिक पार्क बनेगा। पटना एयरपोर्ट इन दोनों जगहों से नजदीक है जिस वजह से इन्हें चिन्हित किया गया है। इस हिसाब से रक्सौल में बनने वाला लॉजिस्टिक पार्क भी एयरपोर्ट के नजदीक है, यहां एक्सप्रेस भी बगल में है।

दोनों जगह हल्दिया और रक्सौल में बंदरगाह है वहां जहाज से उतरे सामान को देश के दूसरे हिस्सों में पहुंचाने में सहूलियत होगी। इसकी कनेक्टिविटी बिहार से है जिससे रोजी और रोजगार बढ़ेगा। खाद्य और बाकी वस्तुएं लॉजिस्टिक पार्क में रखने के लिए कोल्ड स्टोरेज व अन्य सुविधाएं होती है।

देश के बाकी हिस्से से सामान लाकर पार्क में स्टोर किया जाता है फिर जरूरत के मुताबिक स्थानीय स्तर पर इसकी सप्लाई होती है। आवागमन वाले सामान पर खर्च बचता है जिससे वस्तु की कीमत कम होती है। पार्क में गाड़ियों की मरम्मत और खड़ा रखने के लिए गैरज, ट्रक ड्राइवर,, श्रमिक और हेल्पर के रहने के लिए विश्राम जगह खाने पीने के लिए रेस्टोरेंट एवं ढाबे की भी व्यवस्था रहती है।