Connect with us

BIHAR

बिहार में ‘आसानी’ तूफान को लेकर मौसम विभाग ने 18 जिलों के लिए जारी किया अलर्ट

Published

on

बंगाल की खाड़ी में आया तूफान आसानी बेहद गंभीर चक्रवात का रूप ले लिया है। लेकिन बिहार के मौसम पर इसका डायरेक्ट असर नहीं पड़ेगा। मौसम विज्ञान केंद्र पटना के निदेशक विवेक कुमार सिन्हा के अनुसार पूर्वानुमान के मुताबिक बिहार में कमजोर प्रतीत हो रहा है। ऐसे में मौसम में कोई खास बदलाव होने की बात नहीं है। राज्य में पुरवा की मजबूत स्थिति अगले सप्ताह तक बने रहने की उम्मीद है।

पुरवा हवा के वजह से राज्य के 18 जिलों में शुक्रवार तक बिजली चमकने, मेघ गर्जन के साथ ही हल्के से मध्यम स्तर तक की वर्षा का पूर्वानुमान जताया गया है। मौसम की आंख मिचौली के मद्देनजर मौसम विज्ञान केंद्र, पटना के द्वारा जारी कर आम जनों को सुरक्षित जगह पर रहने का सलाह दिया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र पटना के मुताबिक बीते 24 घंटे के दौरान राज्य के बाकी हिस्सों में गरज के साथ वर्षा हुई। वहीं राजधानी पटना में सोमवार को सुबह के समय आंशिक बादल छाया रहा और हल्के स्तर की बूंदाबांदी हुई। सबसे ज्यादा बारिश से बीते 24 घंटों में मुजफ्फरपुर में 88 मिमी रिकार्ड की गई।

सांकेतिक चित्र

मिली जानकारी के मुताबिक, मुजफ्फरपुर के मुसहरी में 65.8 मिमी, दरभंगा के कमतौल में 30.4 मिमी, सीतामढ़ी के बेलसंड में 13.4 मिमी, मधुबनी के झंझारपुर में 61 मिमी, सुपौल के बौसा में 81.4 मिमी, समस्तीपुर के रोसड़ा में 15 मिमी, मधुबनी के सौलीघाट में 14 मिमी, गया के टेकारी में 13 मिमी और समस्तीपुर के पूसा में 32.2 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई।

राजधानी पटना समेत राज्य के अन्य शहरों के तापमान में शुक्रवार को आंशिक गिरावट रिकॉर्ड की गई। राज्य के गया में सबसे ज्यादा 38.8 डिग्री सेल्सियस पारा रिकॉर्ड किया गया। 9 डिग्री पारा लुढ़कने के साथ राजधानी पटना का पारा 35.3 डिग्री सेल्सियस रहा। मुजफ्फरपुर का अधिकतम पारा 32.4 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। प्रदेश के नालंदा, बेगूसराय, जमुई, गया, खगड़िया, सारण, फारबिसगंज, भागलपुर व पूर्णिया के अधिकतम पारा में 0.2 से 0.5 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि रिकॉर्ड की गई।