Connect with us

BIHAR

CM नीतीश ने दिया 16 विभागों को 188 भवनों की सौगात, कहा-रखरखाव का करना होगा खास ध्यान

Published

on

गुरुवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 16 विभागों की 120239.93 लाख रुपए खर्च कर बने 188 भवनों का लोकार्पण और 69715.95 लाख रुपए से बनने वाले 16 विभागों के 56 भवनों की नींव रखी। सीएम ने मिथिला चित्रकला संस्थान और मिथिला ललित म्यूजियम के भवन का भी लोकार्पण किया।

सीएम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यक्रम को संबोधित किया। उन्होंने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि आज मिथिला ललित संग्रहालय और मिथिला चित्रकला संस्थान के भवन का लोकार्पण हुआ है। इसके बाद जाने से इस संस्थान द्वारा चित्रकला में प्रमाण पत्र दिया जाएगा, डिग्री कोर्स की भी शुरुआत होगी। सीएम ने कहा कि मधुबनी पेंटिंग को व्यवसायिक उपलब्धि दिलाने में यह संस्थान महत्वपूर्ण रोल अदा करेगा। यहां आने वाले लोग रखी गई महत्वपूर्ण चीजें देखेंगे और जान सकेंगे।

नीतीश कुमार ने कहा कि साल 2017 में चंपारण सत्याग्रह के 100 वर्ष पूरा होने पर हम लोग ने फैसला लिया था कि बेतिया और मोतिहारी में 2000 लोगों के बैठने की कैपेसिटी वाला प्रेक्षागृह का निर्माण करेंगे। जो अब वह पूरी तरह बनकर तैयार हो चुका है और आज इसका लोकार्पण हुआ है। सीएम ने कहा कि इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए बाल्मीकि नगर में कार्य शुरू हो गया है। बाल्मीकि नगर अभ्यारण क्षेत्र में पहाड़, जंगल और नदियों तीनों एक साथ इतनी आकर्षक है, देश में ऐसी जगह और कहीं नहीं है। उन्होंने कहा कि बाल्मीकिनगर सभागार की आधारशिला रखी गई है।

सीएम ने कहा कि जो पुल, पुलिया, सड़क, भवन का निर्माण हो रहा है उसके रखरखाव पर खास ध्यान दें। इस काम के लिए और इंजीनियरों तथा कर्मियों की आवश्यकता अनुसार बहाली होने से रोजगार में भी इजाफा होगा। उन्होंने कहा कि फ्लाई ऐश वाली ईंट से सरकारी भवनों का निर्माण किया जा रहा है। सीएम ने कहा कि पॉलिटेक्निक संस्थान, आईटीआई, छात्र छात्राओं के लिए हॉस्टल स्कूल सहित कई अन्य भवनों का लोकार्पण और आधारशिला रखी जाए।

मुख्यमंत्री ने विशेष रूप से अभियंताओं को जल जीवन हरियाली अभियान से जुड़े कार्यों पर खास ध्यान देने को कहा। सीएम ने सरकारी भवनों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग और सौर ऊर्जा का काम सही तरीके से कराने की बात कहीं। उन्होंने कहा कि सरकारी इमारतों पर सौर प्लेट स्थापित किए जा रहे हैं। सरकारी भवनों में उस ऊर्जा का इस्तेमाल किया जा सकेगा।