Connect with us

BIHAR

महात्मा गांधी सेतु का पूर्वी लेन बनकर तैयार, इस दिन से शुरू होगा वाहनों का परिचालन, पटना जाना होगा आसान

Published

on

महात्मा गांधी सेतु की पूर्वी लेन को इसी महीने के आखिर तक शुरू कर दिया जाएगा। अगले सप्ताह पुल के उद्घाटन करने की तैयारी जोरों शोरों पर चल रही है। हालांकि उद्घाटन की तारीख अभी कंफर्म नहीं हुई है। कहा जा रहा है कि उद्घाटन समारोह में सीएम नीतीश कुमार के साथ ही भारत सरकार के सड़क परिवहन मामले के मंत्री नितिन गडकरी भी शामिल हो सकते हैं। मौजूदा समय में गाड़ियों का आना-जाना पश्चिमी लेन से हो रहा है, जिसके वजह से भीषण जाम की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

पूर्वी लेन के चालू होने के बाद पटना से हाजीपुर की दूरी 15 मिनट में तय हो जाएगी। विभाग के अधिकारी बताते हैं कि पूर्वी लेन के लिए शेष काम कोई 30 मई तक पूर्ण कर लिया जाएगा और गाड़ियों की आवाजाही भी आरंभ हो जाएगी। दोनों लेने शुरू हो जाने के बाद वन वे ट्रैफिक की व्यवस्था होगी। बिना रुके ही गाड़ी पटना से हाजीपुर का सफर महज कुछ मिनटों में ही पुरा कर लेगी।

प्रतीकात्मक चित्र

बता दें कि 5.57 किलोमीटर लंबे सेतु को विशेष डिजाइन के तहत बनाया गया है। हेड गार्डर के माध्यम से पुल के 46 लोगों को ज्वाइन किया गया। पूर्वी लेन के बीच वाले भाग में लगभग 100 मीटर की बाउंड्री वाले काम को एक से दो दिन में पूरा कर ले जाएगा। इसी धारा कुछ बाकी भागों में एक्सेप्शन जॉइंट का काम अधूरा है, इंजीनियरो का कहना है कि इसे सप्ताह के अंदर पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद सभी बाकी काम 15 से 20 दिन के अंदर पूरा कर लिया जाएगा।

अनुबंध के मुताबिक गांधी सेतु का काम 42 महीने के अंदर पूरा किया जाना था। कोविड के चलते काम प्रभावित होने से लगभग 4 साल का समय लग गया। सेतु की स्थिति बनी होने के बाद पहले पश्चिमी लेन को तैयार किया गया। 30 जून 2020 को इसका उद्घाटन किया गया था। फिर पूर्वी लेन बनाने का काम शुरू हुआ। बता दें कि 1382 करोड़ रुपए की राशि खर्च की गई है।

नए सिरे से सेतु निर्माण के लिए निर्माण एजेंसियों द्वारा ट्रेफिक वॉल्यूम सर्वे किया गया था। सर्वे के दौरान यह पाया गया कि 24 घंटे में 64000 गाड़ियां सेतु से गुजरती थी। लेकिन अब इसमें तेजी से बढ़ोतरी हुई है। एक मिनट में एवरेज 52 गाड़ी पुल से गुजरते थे। 60 प्रतिशत से ज्यादा बड़े गाड़ियों का आना जाना इसमें शामिल है। विभागीय अधिकारियों की मानें तो पांच-छह वर्ष में ट्रैफिक रोड काफी बढ़ा है।

ट्रैफिक एसपी पीके दास ने बताया कि सेतु का दोनों लोगों ने चालू जाने के बाद 30 से 40 वर्ष तक जाम की समस्या से निजात मिल जाएगी। लेकिन इसके लिए कुछ खास व्यवस्था करना होगा। उन्होंने इसके लिए कई तरकीब बताएं। सेतु पर खराब हो जाने वाली गाड़ी को को तुरंत हटाने का इंतजाम करने की बात कही। ट्रैफिक कंट्रोल की मॉनिटरिंग के लिए सीसीटीवी कैमरा लगाने की बात कही।

एनएचएआई के अभियंता वीरेंद्र कुमार ने बताया कि पूर्वी जैन का ज्यादातर काम पूर्ण हो गया है। शेष काम 21 मई से पूर्व हो जाएंगे। उद्घाटन की तारीख अभी निर्धारित नहीं हो सकी है। लेकिन उन्होंने उम्मीद जताई है कि इस महीने से ही इसकी सुविधा लोगों को मिल जाएगी।