Connect with us

CAREER

बिहार में साल 2022 में खोले जाएंगे 12 राजकीय डिग्री कालेज, इन अनुमंडलों का किया गया है चयनित

Published

on

बिहार के 12 अनुमंडलों में एक-एक राजकीय डिग्री कॉलेज खोले जाएंगे। जिन अनुमंडलों में अंगीभूत डिग्री महाविद्यालय नहीं है, उन अनुमंडलों में कॉलेज की स्थापना की जाएगी। शिक्षा विभाग द्वारा दिए गए प्रस्ताव पर वित्त विभाग ने बेगूसराय के तेघड़ा एवं बलिया, भोजपुर के पीरो, वैशाली का महुआ, सुपौल जिले के त्रिवेणीगंज, कटिहार के मनिहारी, सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर, नवादा का रजौली, बक्सर जिले के जगदीशपुर, खगड़िया के बखरी, गया के नीमचक बथानी ओर सीतामढ़ी के पुपरी अनुमंडल में डिग्री कॉलेज खोलने पर मंजूरी दे दी है।

बता दें कि इन कॉलेजों में शैक्षणिक आधारभूत संरचना डेवलप होने के बाद अगले सत्र से पढ़ाई भी शुरू हो जाएगी। शिक्षा विभाग के अनुसार मौजूदा वित्तीय वर्ष 2022 से 23 में यूनिवर्सिटियों एवं अंगीभूत महाविद्यालयों में गुणवत्तापूर्ण उच्च शिक्षा उपलब्ध कराने हेतु जरूरत के मुताबिक आधारभूत सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। बोधगया के मगध यूनिवर्सिटी में 100 बेड वाला हॉस्टल बनाया जाएगा। मगध विश्वविद्यालय प्रशासन के प्रस्ताव पर विभाग ने मुहर लगा दी है। सभी यूनिवर्सिटियों एवं अंगीभूत कॉलेजों के धरोहर भवनों के सुरक्षात्मक काम शुरू करने की भी मंजूरी दी गई है।

वहीं, ढाई करोड़ की लागत से पटना यूनिवर्सिटी के धरोहर ह्वीलर सीनेट का जीर्णोद्धार किया जाएगा। इसके अलावा मुजफ्फरपुर के बीआरए बिहार यूनिवर्सिटी के लंगट सिंह कॉलेज के धरोहर भवनों की सुरक्षा हेतु 16 करोड़ खर्च कर विकास कार्य शुरू कराए जाएंगे। जबकि 150 करोड़ खर्च कर पटना विश्वविद्यालय में अकादमिक भवन एवं प्रशासनिक भवन के निर्माण व नवस्थापित पूर्णिया यूनिवर्सिटी में 6 करोड़ 18 लाख खर्च कर चारदीवारी बनाने की योजना है।