Connect with us

BIHAR

मानसी-धनछड़ होते सिमरी बख्तियारपुर तक स्टेट हाईवे निर्माण को मिली मंजूरी, कोसी क्षेत्र को होगा लाभ

Published

on

कोसी इलाके की बहुप्रतीक्षित मानसी से सिमरी बख्तियारपुर सड़क निर्माण को हरी झंडी मिल गई है। बिहार स्टेट हाईवे परियोजना तीन और चार के तहत आने वाले इस प्रोजेक्ट के लिए बिहार स्टेट रोड डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड ने टेंडर निकाला है। टेंडर में सड़क पैकेज-4 के तहत फान्गो से सिमरी बख्तियारपुर 13.955 किमी व पैकेज-3 के तहत मानसी से फान्गो तक 14.125 किमी लंबी सड़क का निर्माण के लिए टेंडर निकाला गया है।

मानसी से फान्गो तक निर्माण होने वाले स्टेट हाईवे के लिए 42 महीने का समय एजेंसी को दिया जाएगा वहीं फान्गो-सिमरी बख्तियारपुर सड़क निर्माण के लिए दो साल में एजेंसी को निर्माण कार्य पूर्ण करना होगा। कोसी इलाके के इस क्षेत्र में सड़क और पुल निर्माण पर लगभग 525 करोड़ रुपए की लागत आएगी। बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लोक वित्त समिति के बैठक में दो साल पहले ही इस परियोजना को मंजूरी दी थी।

मानसी से फान्गो तक चार नदियों पर उच्च स्तरीय पुल बनाने की योजना है। हालांकि उच्च स्तरीय पुल को लेकर टेंडर प्रकाशित नहीं किया गया है। मानसी से सिमरी बख्तियारपुर 28.8 किमी लंबी सड़क निर्माण हेतु बिहार स्टेट रोड डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड को एशियन डेवलपमेंट बैंक ने आर्थिक सहयोग प्रदान किया है।

मानसी से सिमरी बख्तियारपुर स्टेट हाईवे निर्माण के बाद कोसी के सुपौल, सहरसा, खगड़िया और मधेपुरा के बीच एक ऑप्शनल रास्ता खुल जाएगा‌। मानसी से सहरसा महज 40 किलोमीटर की दूरी रह जाएगी। वर्तमान में मानसी से खगड़िया जाने के लिए सहरसा वासियों को लगभग 110 किलोमीटर का दूरी तय करना होता है। स्टेट हाईवे के बन जाने के बाद 70 किलोमीटर दूरी घट जाएगी। वहीं, मानसी–धनछड़ के बीच चार उच्चस्तरीय पुल का निर्माण होना है। सूत्र बताते हैं कि इस परियोजना को पूरा होने में लगभग पांच साल का वक्त लगेगा।

मधेपुरा से सांसद दिनेश चंद्र यादव ने इस बहु प्रतीक्षित परियोजना को मंजूरी और टेंडर प्रकाशित करने का पूरा क्रेडिट राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दिया है। सांसद ने कहा कि कोसी दियारा इलाके के इस छोटे हिस्से में सड़क निर्माण करना मुश्किल था। ‌ इसका निर्माण होने से सहरसा के साथ ही खगड़िया के लोगों को भी लाभ मिलेगा‌। उन्होंने बताया कि सड़क परियोजना के दौरान ही उच्च स्तरीय पुल निर्माण की दिशा में कार्य शुरू होगा।