Connect with us

BIHAR

नीतीश सरकार का बड़ा फैसला, बिहार में खुलेंगे दो नए मेडिकल कॉलेज, 21 एजेंडों पर लगी मुहर

Published

on

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में सोमवार को राज्य कैबिनेट की बैठक में कई महत्वपूर्ण एजेंडों पर मुहर लगी। कैबिनेट ने बड़ी घोषणा करते हुए सूबे में दो मेडिकल कॉलेज और अस्पताल खोलने का निर्णय लिया है। नए मेडिकल कॉलेज की स्थापना पूर्वी चंपारण मुंगेर जिले में की जाएगी। सरकार ने मेडिकल कॉलेज निर्माण के साथ ही अस्पताल बनाने पर स्वीकृति प्रदान की है। सरकार इसके निर्माण के लिए टोटल 1200 करोड़ से अधिक की राशि पर मुहर लगाई है।

कैबिनेट के बैठक में जिन महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर मुहर लगी उनमें नालंदा जिला के पावापुरी मेडिकल कॉलेज के नाम बदलने को लेकर भी निर्णय लिया गया। सरकार ने वर्द्धमान आयुर्विज्ञान संस्थान, पवापुरी का नाम बदलकर भगवान महावीर आयुर्विज्ञान संस्थान, पावापुरी कर दिया है। नीतीश सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है, सम्राट अशोक की जयंती आफ राजकीय समारोह के रूप में मनाया जाएगा। चैत्र शुक्ल अष्टमी तिथि को अशोक सम्राट की जयंती राजधानी पटना के सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर में राजकीय समारोह के रूप में मनाया जाएगा।

बता दें कि राज्य सरकार ने 18 साल से 59 साल के लोगों के प्रिकॉशन डोज के लिए 1314 करोड़ से ज्यादा की मंजूरी दी है। बिहार में अब मुफ्त में बूस्टर डोज दिया जाएगा। बिहार राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड नियमावली 2022 के प्रस्ताव पर नीतीश कैबिनेट ने मुहर लगाई है, इसके अलावा मदरसा प्रबंधन समिति गठन नियमावली 2022 को भी मंजूरी प्रदान की है।

नीतीश सरकार ने बिहार राज्य गैर सरकारी अनुदानित मदरसा मौलवी स्तर तक के लिए गैर शिक्षण कर्मचारी सेवा शर्त नियमावली पर मुहर लगाई है। राज्य कैबिनेट ने एक और फैसला लिया है, बिहार व्यवहार न्यायालय अधिकारी एवं कर्मचारी नियमावली 2022 पर मुहर लगा दी है। इसके तहत अब कर्मचारियों की बहाली, ट्रांसफर, प्रमोशन और अन्य सेवा शर्तों को निर्धारित किया जाएगा।