Connect with us

BIHAR

पटना में स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत शहर के 21 सार्वजनिक जगहों पर बन‌ रहा 42 ई-टॉयलेट

Published

on

राजधानी पटना को चकाचौंध करने की तैयारी जोरों शोरों पर है। स्वच्छ भारत अभियान के तहत राजधानी के आम जनों के लिए पहली बार सार्वजनिक जगहों पर ई टॉयलेट बनाया जा रहा है।

स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत राजधानी के कई सार्वजनिक जगहों पर टोटल 42 ई टॉयलेट का निर्माण जारी है। दो टॉयलेट पुरुष और महिला के लिए बनाए जाएंगे। बता दें कि 42 टॉयलेट के निर्माण में टोटल 4 करोड़ 30 लाख की राशि खर्च हो रही है। कुछ जगहों पर इसका निर्माण जारी है। पूरी तरह से बन जाने के बाद आम लोगों के लिए इसे खोल दिया जाएगा।

प्रतीकात्मक चित्र

बता दें कि ई टॉयलेट का यूज करने वाले लोगों को 2 रुपए का सिक्का डालना होगा इसके बाद इसका गेट खुद खुल जाएगा। टॉयलेट में एंट्री करते वक्त ही ऑटोमेटिक लाइट जल जाएगा और सीलिंग फैन ऑन हो जाएगा। अमूमन देखा जाता है कि सार्वजनिक जगह टॉयलेट्स काफी गंदे होते हैं, इस कारण लोग इसका इस्तेमाल करने में कतराते हैं। शौच करने के बाद लोग पानी डालना या फ्लश करने में उचित नहीं समझते हैं। इसी को देखते हुए यहां ऑटोमेटिक फ्लश सिस्टम दिया गया है जो प्रत्येक 3 मिनट पर डेढ़ लीटर पानी से फ्लश करेगा।

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट की पीआरओ हर्षिता सिंह ने बताया कि लोगों की सुविधा के लिए इस योजना की शुरुआत की जा रही है। बहुत ज्यादा राजधानी के सभी लोगों पर इसका निर्माण पूरा हो जाएगा। शुरुआती समय में यह सुविधा फ्री रहेगा। पूरी राशि का 65 प्रतिशत वहन स्मार्ट सिटी के तहत हो रहा है।

उद्घाटन होने के 5 वर्ष तक यह सुविधा मुफ्त रहेगा। लोग मात्र 2 रुपए देकर इसका यूज कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत पूरा रखरखाव किया जाएगा। बिजली बिल से लेकर मेंटेनेंस तक की तमाम चीजें स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत ही किया जाएगा। प्रत्येक पांच इस्तेमाल के बाद ऑटोमेटिक यह टॉयलेट साफ हो जाएगा।