Connect with us

BIHAR

बेतिया ने हासिल की बड़ी उपलब्धि, भारत सरकार के कॉफी टेबल बुक में मिला स्थान, पीएम मोदी करेंगे अनावरण

Published

on

स्टार्टअप जोन चनपटिया ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है। भारत सरकार द्वारा देश भर के सफल मॉडल पर पब्लिश्ड होने वाली कॉफी टेबल बुक में बेतिया मॉडल (स्टार्टअप जोन) को जगह मिली है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से सिविल सर्विस डे पर अनावरण सिविल किया जाएगा। इस उपलब्धि पर जिले के डीएम कुंदन कुमार ने हर्ष व्यक्त किया है। साथ ही संबंधित सभी आला अधिकारियों, कर्मचारियों एवं उद्यम स्थापित करने वाले कामगारों एवं वैसे श्रमिकों जो श्रमिक से मालिक बन गए हैं, उन्हें बधाई दी है।

डीएम ने बताया कि राज्य सहित केंद्र स्तर पर चनपटिया स्टार्टअप जोन की सफलता को पहचान हासिल हुई है और इस क्रम में इसकी कामयाबी की कहानी को कॉफी टेबल बुक में स्थान प्राप्त हुआ है, जो जिले के लोगों के लिए गौरव का विषय है। जानकारी के लिए बता दें कि कोविड में जब स्थिति दयनीय थी तब पश्चिमी चंपारण जिले में 80 हजार से ज्यादा कामगारों की घर वापसी हुई थी। ये सभी कामगार अपने घर से दूर दूसरे राज्यों में किसी ना किसी कंपनी में मजदूर थे।

लॉकडाउन में काम छूट जाने के बाद ये वापस घर आ गए। 14 दिनों के पृथक वास अवधि में जिला प्रशासन ने इनकी स्किल मेकिंग करवाई और जिले में उधम स्थापित करने के लिए आईडिया दिया। स्किल मैपिग के समय मुख्य तौर पर टेक्सटाइल एंड एपरिल, फूटवेयर, बम्बू एंड क्राफ्ट इत्यादि विधा में इनके पारंगत होने के बारे में बताया गया।

साल 2020 के अगस्त महीने में जिलाधिकारी कुंदन कुमार के नेतृत्व में 30 से ज्यादा कामगारों के साथ मीटिंग कर कार्य योजना बनाई गई। बैंक के कर्मचारियों से कोआर्डिनेशन करते हुए वित्तीय सहायता ऋण दिलवाया गया। कामगारों की ओर से आधुनिक तकनीक के कंप्यूटर एडेड एम्ब्रॉयडरी मशीनों का आयात करना शुरू किया गया। इस तरह से चनपटिया के 20 एकड़ एरिया में फैले बाजार समिति में जिले के पहले स्टार्टअप की स्थापना की गई।

डीएम कुंदन कुमार के कुशल नेतृत्व एवं मार्गदर्शन से अभी तक 57 उद्यमियों ने अपना स्टार्टअप स्थापना कर लिया है।आधुनिक तकनीक के लगभग 9 करोड़ रुपये से बनने वाली 400 से अधिक मशीनों को बनाया जा चुका है, जिससे उत्पादित तकरीबन 15 करोड़ रुपये से अधिक के सामानों की बिक्री लोकल मार्केट सहित अन्य जिले, दूसरे राज्यों और विदेशों में किया जा चुका है।