Connect with us

BIHAR

बिहार के सभी जिलों में बनेगा विशेष हेलीपैड, रात में भी हो सकेगी हेलीकाप्‍टर की लैंडिंग

Published

on

बिहार के सभी जिलों की पुलिस लाइन में 2022-23 से दिन के साथ अब रात के समय भी हेलिकाप्टर उतर सकेगा। सरकार ने मंत्रिमंडल सचिवालय के तहत नए वित्तीय साल के लिए नाइट लैंडिंग फैसिलिटी के साथ हैलीपैड निर्माण योजना को हरी झंडी दी है। लोग सरकार के इस ऐलान को आधारभूत संरचना निर्माण की कड़ी से जोड़ कर देखा जा रहा है।

सरकार ने साल 2022-23 के बजट में मंत्रिमंडल सचिवालय के बजट में इजाफा किया है। गत वर्ष के मुकाबले 2022-23 में इस विभाग के बजट में लगभग 103 करोड़ रुपए की वृद्धि की गई है।जबकि इस साल स्थापना मद की राशि को घटा दी गई है। गत साल के स्थापना मद में 230.18 करोड़ रुपए को मंजूरी मिली थी, जबकि इस साल 216.10 करोड़ कर दिए गए हैं।

बता दें कि मंत्रिमंडल सचिवालय के अधीन आने वाले राज्य के उड्डयन संस्थान के लिए सरकार ने नया सिमयूलेटर खरीदने का फैसला लियाया है। इसी वर्ष उड्डयन संस्थान के साथ वायुयान संगठन के लिए तीन हैंगर, शैक्षणिक भवन एवं निदेशालय के प्रशासनिक भवन का निर्माण भी प्रस्तावित है। इसके अलावा सूबे सभी जिलों में अंधेरे में भी हेलीकाप्टर को लैंड किया जा सके इसकी व्यवस्था पर सबसे ज्यादा ध्यान दिया गया है। इसका मकसद है कि इमरजेंसी स्थिति में रात में भी बिना किसी बाधा के हेलीकाप्टर लैंड कराया जा सके। इस काम को प्राथमिकता करने हेतु् हैलीपैड निर्माण की योजना स्वीकृत की गई है।

जानकारी के लिए बता दें कि रात्रि के समय हेलीकाप्‍टर लैंड कराने की सुविधा वर्तमान में कुछ ही महानगरों में है। बाकी जगहों तो हवाईजहाज तो रात में लैंड करते और उड़ान भरते हैं लेकिन हेलीकाप्‍टर नहीं।