Connect with us

BIHAR

मुजफ्फरपुर को सरकार की सौगात, बेला में बनेगा सर्जिकल और फार्मा पार्क, उत्पन्न होंगे रोजगार के अवसर

Published

on

बिहार के मुजफ्फरपुर को बड़ी सौगात मिलने वाली है। जिले के मोतीपुर में देश का सबसे बड़ा फूड पार्क के बाद सर्जिकल और फार्मा पाक बनाने का रास्ता साफ हो गया है। इंडस्ट्रियल एरिया बेला स्थित इंडियन ड्रग्स एंड फार्मास्यूटिकल लिमिटेड (आईडीपीएल) की भूमि पार्क सर्जिकल व फार्मा पार्क खुलेगा।

उद्योग विभाग ने इसके लिए स्वीकृति दे दी है। परिवार के लिए बिहार औद्दोगिक क्षेत्र विकास प्राधिकरण ने केंद्रीय परिवार कल्याण स्वास्थ्य मंत्रालय से संबंधित संस्थानों से संपर्क साधा है‌। केंद्रीय संस्थानों से हरी झंडी मिलते ही बेला इंडस्ट्रियल एरिया के आईडीपीएल में सर्जिकल व फार्मा पार्क बनाने का काम शुरू हो जाएगा।

प्रतीकात्मक चित्र

सर्जिकल व फार्मा पार्क में फैक्ट्रियां खुलने से रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। पार्क निर्माण के लिए आईडीपीएल की 25 एकड़ जमीन को बियाडा ने चयनित कर लिया है। बता दें कि इस पार्क में मास्क, पीपीई किट, ऑक्सीजन, ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर, सूई, कॉटन, ग्लव्स, टेस्ट किट, पैथलॉजी व सर्जरी में इस्तेमाल आने वाले सामान व दवाओं का प्रोडक्शन होगा‌। पार्क में प्राइवेट कंपनियां फैक्ट्री खोलेगी। बियाडा की प्रोजेक्ट क्लीयरेंस कमेटी की अनुशंसा पर सर्जिकल व फार्मा पार्क में फैक्ट्री खुलेगा।

बियाडा के कार्यकारी निदेशक एसके सिन्हा ने जानकारी दी कि बेला इंडस्ट्रियल एरिया में सर्जिकल व फार्मा पार्क स्थापित करने की कवायद तेजी से चल रही है। बिहार सरकार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने सरकार की सौगात का ऐलान किया। संवाद कार्यक्रम में उद्योग मंत्री ने कहा कि मुजफ्फरपुर में देश का सबसे बड़ा फूड पार्क बनेगा।

बता दें कि स्थानीय सांसद व केंद्रीय मंत्री रहे जॉर्ज फर्नांडिस की पहल पर साल 1970 में बेला में इंडियन ड्रग्स एंड फार्मास्यूटिकल लिमिटेड की नींव रखी गई थी। साल में 1994 में इसका नाम बदलकर बिहार ड्रग्स औद्योगिक केमिकल लिमिटेड कर दिया गया‌। शुरुआत के दिनों में नियासिन जैसी विटामिन बी-3 कंपोजीशन, एसिटिक एसिड और दवाओं के लिए रॉ मैटेरियल तैयार होता था। कई बड़ी-बड़ी कंपनियां यहां से रॉ मटेरियल खरीदती थी। साल 1996 में आईडीपीएल पर बंदी की तलवार लटक गई। वर्तमान में यहां पर 7 वर्षों से एसएसबी का कैंप चल रहा है।

Trending