Connect with us

BIHAR

अगवानी घाट-सुल्तानगंज पुल का निर्माण जून तक होगा पूरा, यह पुल शिक्षा, पर्यटन, व्यपार आदि कई मायनों में है खास

Published

on

इसी साल के जून तक खगड़िया के परबत्ता प्रखंड अगुवानी गंगा घाट से सुल्तानगंज तक बन रहे गंगा पुल बनकर तैयार होने की उम्मीद है। स्थानीय लोग इसको लेकर बेहद खुश दिख रहे हैं। पुल के निर्माण होने से लोगों को धार्मिक स्थल जाने में सुलभता होगी वहीं जिले के किसान और कारोबारियों को एक शानदार विकल्प के साथ बड़ा बाजार भी मिलेगा। बता दें कि इस पुल के दोनों ओर 25 किलोमीटर लंबे सड़क का निर्माण कार्य जारी है।

बता दें कि एप्रोच पथ के भूमि अधिग्रहण का काम पूरा हो गया है। अगुवानी की ओर बन रहे पिलर संख्या 15 के साथ ही लगभग सभी पिलरों का निर्माण कार्य लगभग-लगभग पूरा हो गया है। वर्तमान में तीव्र गति से सुपर स्ट्रक्चर एवं छत ढलाई का कार्य जारी है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 23 फरवरी 2014 को बिहार सरकार के महत्वाकांक्षी परियोजना का आधारशिला रखा था। इस पुल के बनने से उत्तर और दक्षिण बिहार के बीच की दूरी घट जाएगी। वहीं पुल पर आवागमन शुरू होने से सावन के समय जलाभिषेक के लिए देवघर जाने वाले कावरियों को भी सुविधा होगी। यह पुल डायरेक्ट एनएच 31 तथा एनएच 80 से भी जुड़ेगा। गौरतलब हो कि नेशनल हाईवे-31 स्थित पसराहा एवं मुंगेर भागलपुर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 80 स्थित सुल्तानगंज के पास फोरलेन सड़क का मिलान का काम जोरों-शोरों से चल रहा है।

स्थानीय लोगों का माननाहै माने कि फोरलेन पुल बनने के साथ ही खगड़िया के अगुवानी घाट का पुराना महत्व वापस आएगा। जबकि इस पुल के बीच में डेक के नीचे झूलता हुआ डॉल्फिन वेधशाला भी सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करेगा। वहीं दियारा इलाके के विकास को रफ्तार देने के लिये भी यह पुल एक मुख्य कड़ी बनेगा। साथ ही दक्षिण बिहार की ओर से आने वाला गिट्टी बालू की कीमतों में भी गिरावट होगी।

निर्माण कार्य में जुटी कंपनी एस पी सिंगला के प्रोजेक्ट डायरेक्टर इंजीनियर आलोक कुमार झा बताते हैं कि पुल का निर्माण इस साल में पूरा हो इसके लिए कंपनी भरपूर कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि 24 घंटे निर्माण कार्य जारी है।

फोर लेन पुल के बारे में बताएं तो दो-दो लेन का दो अलग-अलग पुल बनेगा। पिलर की जगह केबुल पर झूलता हुआ पुल होगा। पुल में दो पिलरों के बीच 125 मीटर की दूरी होगी। 3.106 किलोमीटर लंबी पुल होगी जो केवल स्टैंड पर आधारित होगी। पहुंच पथ की लंबाई 25 किलोमीटर होगी यह पूरी तरह प्रकाश प्रणाली होगा जिसमें व्हीकल अंडरपास भी बनेगा। रोटरी ट्रैफिक वाले इस फोरलेन पुल में पैसेंजर अंडर पास भी बनाया जाएगा।

Source- Dainik Bhaskar, Pic- TheWay4U

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Trending