Connect with us

BIHAR

बिहार के मदरसे को सरकार का तोहफा, हर जिले में बनेंगे आवासीय विद्यालय, बच्चों को मिलेगी ऑनलाइन शिक्षा

Published

on

बिहार के मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों की सुविधा और भी बढ़ गई है। अब राज्य में संचालित मदरसों के बच्चों को आनलाइन पढ़ाई, ई-बुक्स और ई-लाइब्रेरी जैसी सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। सीएम नीतीश कुमार के आदेश पर अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने मदरसों को स्मार्ट बनाने की दिशा में पहल शुरू कर दिया है। विभाग ने 100 बेड की क्षमता वाले हॉस्टल, कांफ्रेंस हाल का निर्माण, कंप्यूटर लैब, ई-लाइब्रेरी निर्माण के लिए 28 करोड़ 61 लाख रुपए मधुबनी, मुजफ्फरपुर, पश्चिम चंपारण, दरभंगा और वैशाली जिले के लिए जारी किया है।

राज्य के अल्पसंख्यक कल्याण मामले के मंत्री मो.जमा खान ने जानकारी दी कि सभी मदरसों में पढ़ने वाले बच्चे को ऑनलाइन पढ़ाई से लेकर ई-बुक्स जैसी सुविधा मिलेगी। मोबाइल ऐप में वर्गवार सिलेबस, माडल पेपर व साल्यूशन बुक भी उपलब्ध कराया जा रहा है। ऐप में कई और फीचर्स जोड़े जा रहे हैं। बच्चों को आधुनिक शिक्षा से जोड़ने के लिए बिहार राज्य मदरसा सुदृढ़ीकरण योजना के तहत सरकार हर मदरसे को अपने स्तर से विकसित कर रही है।

मंत्री ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार के निर्देश पर राज्य के सभी मदरसों में आधारभूत संरचना विकास को पहली प्राथमिकता दी जा रही है। शिक्षकों के रिक्त पदों को जल्द ही भरने की तैयारी है। हर जिले में अल्पसंख्यक आवासीय विद्यालय के निर्माण में भी तीव्रता आई है। इन स्कूलों में आधुनिक शैक्षणिक प्रणाली के तहत बच्चों के पढ़ाई का समुचित व्यवस्था होगा। उन्होंने कहा कि अगले साल तक ऐसे विद्यालयों का निर्माण सभी जिले में पूर्ण हो जाएगा। वर्तमान वित्तीय वर्ष में दरभंगा, पश्चिम चंपारण और वैशाली जिले के मदरसों में 5 करोड़ 84 लाख रुपए खर्च खर आधारभूत संरचना के तहत कंप्यूटर लैब और लाइब्रेरी आदि विकसित किया जा रहा है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.