Connect with us

ECONOMIC

अब विदेश में रह रहे भारतीय भी UPI से भारत में भेज सकेंगे पैसे, बस करना होगा ये काम

Published

on

अब विदेश में भी रह रहे भारतीय यूपीआई के जरिए पैसा ट्रांसफर कर सकेंगे। इंडसइंड बैंक ने विदेश में यूपीआई ट्रांजेक्शन सुविधा की शुरुआत की है। इस तरह का सुविधा देने वाला पहला इंडसइंड बैंक पहला बैंक बन गया है। इंडसइंड बैंक के यूपीआई से विदेश में भी रहे भारतीय अपने देश में पैसे का लेन-देन कर सकेंगे। थाईलैंड के साथ इस बैंक ने फॉरेन इनवार्ड रेमिटेंस की सुविधा बहाल की है। ग्राहकों को DeeMoney बेवसाइट पर बेनिफिशियरी को जोड़ना होगा और उसके बाद आसानी से पैसा ट्रांसफर कर सकेंगे।

बता दें कि विदेश में यूपीआई से फंड ट्रांसफर सुविधा की शुरुआत के लिए इंडसइंड बैंक ने नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया से हाथ मिलाया है। DeeMoney थाइलैंड का फाइनेंशियल सॉल्यूशन प्रोवाइडर है जो पैसा ट्रांसफर और फॉरेन करंसी एक्सचेंज जैसी सुविधा उपलब्ध कराता है। इंडसइंड बैंक ने थाइलैंड के डीमनी के साथ समझौता किया है। आने वाले समय में और देशों के साथ मनी सर्विस प्रोवाइडर की योजना पर यह बैंक काम कर रहा है।

इंडसइंड बैंक के कंज्यूमर बैंकिंग और मार्केटिंग के हेड सौमित्र सेन नई सुविधा के बारे में विस्तार से बताया है। उन्होंने बताया कि ग्राहकों को निर्बाध बैंक की सुविधा मुहैया हो सके। इसी को देखते हुए यूपीआई आधारित विदेश से बड़ी ट्रांसफर की सुविधा को शुरू किया गया है। देश का पहला बैंक होगा जो एनपीसीआई के साथ समझौता कर विदेश में पड़ी ट्रांसफर की सुविधा की शुरुआत किया हो। थाईलैंड में रह रहा कोई भी भारतीय DeeMoney के जरिए रियल टाइम में ही भारत में पैसे ट्रांसफर कर सकेगा।

भारत में रहने वाले लोग यूपीआई में सिर्फ यूपीआई आईडी के जरिए ही कहीं से भी किसी को पैसा ट्रांसफर कर देते हैं, इसमें बैंक खाते की भी आवश्यकता नहीं होती है। विदेश में रहने वाले भी लोग यूपीआई पिन डालते ही भारत में पैसा ट्रांसफर कर सकेंगे। इस सुविधा की सबसे अहम बात कि सभी लेनदेन की जानकारी सरकार के खाते में रिकॉर्ड होती रहेगी।

इस सुविधा की शुरुआत होने से सबसे ज्यादा फायदा थाईलैंड में रह रहे भारतीयों को हुआ है। जो यूपीआई के जरिए अब सरलता से एनआरआई आर एनआरओ खाते में पैसे ट्रांसफर कर सकेंगे। भारत में आपने परिचितों और परिवार वालों को भी आसानी होगी।‌ पैसे भेजने के लिए बैंक शाखा में नहीं जाना होगा। एनआरआई को लंबा-चौड़ा फॉर्म भरने की झंझट से मुक्ति मिलेगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.