Connect with us

MOTIVATIONAL

पैसों की तंगी से शुरू की 1500 रु० की नौकरी, आज करोड़ों की कंपनी के मालिक है श्रीशेख आसिफ

Published

on

दुनिया में बड़ी पहचान बनाने के लिए सबको कई संघर्षो का सामना करना पड़ता ही है। मुश्किलें पार करके जो बड़ा मुकाम हासिल कर लेता है ऐसे ही इंसान को पद्मश्री जैसे अवार्ड से नवाजा जाता है और जाना भी चाइये। आज हम बात करने जा रहे हैं जम्मू-कश्मीर के डिजिटल मार्केटर श्रीशेख आसिफ की जिनका नाम देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक पद्मश्री पुरस्कार 2022 के लिए नॉमिटेड कर दिया गया है भारत सरकार के द्वारा। बता दें, शेख आसिफ न सिर्फ एक अच्छे बिजनेसमैन है बल्कि वह बेहतरीन लेखक भी है।

इसके साथ ही वह एक शिक्षक के रूप में कई लोगों को फ्री में व्यपार के बारे में भी पढ़ाते हैं। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि श्रीशेख आसिफ जी कभी 1500 की नौकरी किया करते थे लेकिन आज वह करीब 2.5 करोड़ रुपए की कंपनी के मालिक है। आइए जानते हैं श्रीशेख आसिफ जी की कहानी

गरीब परिवार में ही पैदा हुए श्रीशेख आसिफ को इस मुकाम तक आने में कई दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा। आसिफ का जन्म जम्मू कश्मीर के श्रीनगर के बटमालू में हुआ है। इनके पिता एक हेड कांस्टेबल थे श्रीनगर राज्य में लेकिन वह अक्सर बीमार रहा करते थे। ऐसे में आसिफ की मां ने ही सारा परिवार को संभाला और आसिफ को भी अच्छे से पढ़ाया।

लेकिन एक समय पर घर की स्थिति इतनी दयिनिये हो चुकी थी कि आसिफजी को अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ी थी पैसो की तंगी के वजह से। इतना ही नहीं बल्कि आसिफ के परिवार पर बहुत भारी कर्जा भी था। वहीं उनके पिता ने बेटा की अच्छी पढ़ाई के लिए उन्हें hp का कंप्यूटर भी कर्जे पर दिलवाया था।
इसके बाद साल 2014 में आसिफजी ने अपनी प्राइवेट नौकरी को त्याग दिया था और बिजनेस करने का फैसला दृड़ किया। वह जैसे ही बिजनेस के सपने देखना चालू किये उसी दौरान जम्मू कश्मीर की घाटी में पूरी तरह बाढ़ आ गई जिसके चलते उनके सारे कामआए पैसे घर की मरम्मत और राशन-पानी में पूरी तरह खत्म हो गया। श्रीशेख आसिफजी ने बताया कि, “मेरा पूरा घर पानी में पूरी तरह डूब गया था हमारी स्थिति पिछले कुछ वर्षों में हल्की ठीक थी। लेकिन आपदा ने हमारा सब कुछ बर्बाद कर दिया।”

भारत में आकर श्रीशेख आसिफ जी ने वेब डिजाइनिंग और डिजिटल मार्केट मेजैसे कोर्स को छात्रों को मुफ्त में शिक्षा प्रदान की। रिपोर्ट की मानें तो श्रीशेख आसिफजी अब तक 900 बच्चे और 40 कर्मचारियों को शिक्षा दे चुके हैं। बता दें, शेख आसिफ अपने करियर में कई अवॉर्ड्स हासिल कर चुके हैं अभी तक।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.