Connect with us

BIHAR

मध्यमवर्गीय परिवार से आने वाले गौरव ने सेल्फ स्टडी के बदौलत 65वीं BPSC में किया टॉप

Published

on

गुरुवार को देर शाम बिहार लोक सेवा आयोग 65वीं के फाइनल रिजल्ट की घोषणा हुई। 422 अभ्यर्थियों को सफलता मिली, वहीं रोहतास के गौरव सिंह ने टॉप किया। गौरव ने तीसरे प्रयास में यह सफलता पाई है। गौरव कहते हैं- ‘यूपीएससी की तैयारी कर रहे थे, इसलिए बीपीएससी के लिए कुछ अलग से तैयारी नहीं करना पड़ा बस अपनी पढ़ाई को जारी रखा।’

बिहार के रोहतास से आने वाले गौरव मध्यमवर्गीय परिवार से आते हैं, गौरव के पिता का बचपन में ही देहावसान हो गया था। उनकी माता शिक्षिका के तौर पर कार्यरत है।‌ शुरुआती पढ़ाई अपने मामा के यहां बनारस में रहकर पूरी करने के बाद साल गौरव ने साल 2015 में कलिंगा इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी, भुवनेश्वर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बीटेक की डिग्री हासिल की। प्राइवेट नौकरी से असंतुष्ट गौरव ने साल 2018 में नौकरी छोड़ दी। डिफेंस सर्विस में जाने की ख्वाहिश थी, लेकिन किन्हीं कारणों के चलते वहां सिलेक्शन नहीं हो पाया। इसके बाद उन्होंने सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरू कर दी।

गौरव ने तीसरे प्रयास में सफलता पाई है। दो बार असफलता हाथ मिलने के बाद भी तैयारी जारी रखी। इस सफलता का श्रेय अपने सीनियर प्रवीण कुमार गार्ड को देते हैं। गौरव बताते हैं, मेरे कामयाबी में उनका काफी योगदान है। गौरव ने कोचिंग क्लासेस ना ज्वाइन करके टेस्ट सीरीज जॉइन की जहां से उन्होंने यूपीएससी की तैयारी करते रहे। यूपीएससी में 4 नंबर से गौरव का मेंस परीक्षा छूट गया था।

गौरव इस सफलता से बेहद खुश है। गौरव के टॉप करने की खबर मिलते ही परिवार में भी हर्षोल्लास का माहौल है। बीपीएससी की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए गौरव कहते हैं, सिविल सर्विसेज की तैयारियों के दौरान तरह तरह की चुनौतियां आती रहती है, असफलता भी हाथ लगती है। लेकिन इन सबों से इतर हमें निरंतर मेहनत करती रहनी चाहिए। यकीनन सफलता कदमों को चूमेगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.