Connect with us

INTERNATIONAL

मोहम्मद अली जिन्ना की तीन बेशक़ीमती चीज़ें जिन्हें वो भारत से पाकिस्तान न ले जा सके, जानें

Published

on

मोहम्मद अली जिन्ना भले ही अपने लिए एक अलग देश ‘पाकिस्तान’ बनाने में सफल रहे, लेकिन वो अपने साथ अपनी तीन बेशक़ीमती चीज़ों को अपने देश पाकिस्तान न ले जा सके। क्या थीं वो तीन ख़ास चीज़ें? अगर नहीं पता, तो हम आपको बताते हैं, लेकिन ये जानने से पहले मोहम्मद अली जिन्ना से जुड़ी कुछ बातों को जानना ज़रूरी हैं। मोहम्मद अली जिन्ना और महात्मा गाँधी दोनों ही सौराष्ट्र के काठियावाड़ से संबंध रखते थे। साथ ही माना जाता है कि उनकी शादी मात्र 16 वर्ष की उम्र में ही करा दी गई थी, क्योंकि उनकी माँ को डर था कि कहीं बेटा विदेश जाकर किसी स्त्री से शादी न कर ले।

मोहम्मद अली जिन्ना की माँ ने उनकी शादी अपने एक रिश्तेदार की बेटी से करा दी, जिनका नाम था अमीबाई, लेकिन दुर्भाग्य से अमीबाई की बहुत जल्द मृत्यु हो गई। अमीबाई की मृत्यु उस वक़्त हुई जब जिन्ना इंग्लैंड में पढ़ाई कर रहे थे।

अपनी प्यारी पत्नी रत्तनबाई को खो दिया मोहम्मद अली जिन्ना ने।

मोहम्मद अली जिन्ना इंग्लैंड से वापस मुंबई आ गए और यहीं वकालत करने लगे। यहाँ उनके मुवक्किलों यानी क्लाइंट्स में एक करोड़पति पारसी व्यापारी भी थे, जिनका नाम था दिनशॉ मानेकजी पेटिट। एक समय की बात है, जिन्ना किसी काम से दिनशॉ के घर गए और वहां उनकी मुलाक़ात दिनशॉ मानेकजी पेटिट की बेटी रत्तनबाई उर्फ़ रुटी से हुई और वो अपना दिल दे बैठे। वो एक दूसरे से प्यार करने लगे थे।मोहम्मद अली जिन्ना ने शादी की बात रत्तनबाई के पिता से की, लेकिन वो यह सुनते ही आग बबूला हो गए, क्योंकि मोहम्मद अली जिन्ना मुस्लिम थे।

साथ ही उन्होंने अपनी बेटी से साफ़ कह दिया था कि वो मोहम्मद अली जिन्ना से न मिले। बावजूद इसके दोनों के बीच प्यार परवान चढ़ता रहा। इसके बाद 18 साल होते ही रत्तनबाई ने धर्म परिवर्तन कर मोहम्मद अली जिन्ना से शादी कर ली और पारसी समाज से संबंध तोड़ लिया। 15 अगस्त 1919 में रत्तनबाई ने एक बेटी को जन्म दिया, जिसका नाम दीना रखा गया। लेकिन, कुछ सालों बाद (20 फ़रवरी 1929) रत्तनबाई की मृत्यु कैंसर से हो गई जिन्ना की प्यारी पत्नी हमेशा के लिए उन्हें अलविदा कहकर चली गई।

इधर इसे एक संयोग ही कहा जाएगा कि मोहम्मद अली जिन्ना की बेटी दीना ने एक पारसी उद्योगपति नेविल वाडिया को पसंद किया। दीना का यह फ़ैसला जिन्ना को पसंद न था। जिन्ना चाहते थे कि उनकी बेटी किसी मुस्लिम लड़के से निकाह करे। मोहम्मद अली जिन्नाने अपनी बेटी दीना से यहाँ तक कह दिया था, “मुंबई शहर में लाखों मुस्लिम हैं, क्या तुम्हें यह पारसी ही मिला.” इस बात पर दीना ने अपने पिता को जवाब दिया था कि “क्या आपको भी शादी के लिए एक पारसी ही मिली थी।”

इसपर मोहम्मद अली जिन्ना का जवाब था, “तुम्हारी माँ पारसी से मुस्लिम बन गई थीं.” दीना ने अपने पिता की बात नहीं मानी और नेविल वाडिया से शादी कर ली। कुछ इस तरह मोहम्मद अली जिन्ना की प्यारी बेटी उनसे अलग हो गई और वो भारत की होकर रह गई। माना जाता है कि सितंबर 1948 में जब मोहम्मद अली जिन्ना की मृत्यु हुई, तो उनके अंतिम संस्कार में दीना वाडिया पहुँची थीं और शोक संदेश में लिखा था कि बड़ी ही दुख़द स्थिति में उनके पाकिस्तान बनाने का सपना साकार हुआ है।

साथ ही मुंबई के सबसे रईस इलाक़े ‘मलाबार हिल्स’ पर मोहम्मद अली जिन्ना का बंगला था, जिसे ‘जिन्ना हाउस’ भी कहा जाता है। मोहम्मद अली जिन्ना का यह बंगला महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री आवास के पास है। मोहम्मद अली जिन्ना ने इसे 1936 में बनवाया था और इसे बनाने में लगभग 2 लाख रुपए ख़र्च किए थे। यह बंगला ढाई एकड़ में फैला है। ख़ास बात यह है कि इसमें इंग्लैंड के संगमरमर और अखरोट की लकड़ी का इस्तेमाल किया गया था। यहां अक्सर जवाहर लाल नेहरू और महात्मा गाँधी के साथ उनकी मुलाक़ातें होती रहती थीं।

आपको जानकर आश्चर्य होगी कि जब भारत का विभाजन हुआ, तो मोहम्मद अली जिन्ना ने नेहरू से कहा था कि वो इस बंगले को यूरोपीय दूतावास को सौंप दें, क्योंकि उन्हें लगता था कि भारतीय इस बंगले के लायक़ नहीं हैं। बाद में इस बंगले को ब्रिटिश हाई कमीशन को लीज़ पर दे दिया गया और 2003 में इसे ख़ाली करवाया गया। मोहम्मद अली जिन्ना ने अपनी वसीयत में इस बंगले का ज़िक्र नहीं किया था और न ही क़ानूनी तौर पर अपनी बेटी दीना को इसे सौंपा। इस बंगले पर दीना वाडिया के साथ-साथ पाकिस्तान ने भी अपना हक़ जताया था, लेकिन वे असफल रहे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.